• Hindi News
  • National
  • पहले शराब पिलाई, फिर मफलर से गला घोंटा अपराध छुपाने लाश को माही नदी में फेंका

पहले शराब पिलाई, फिर मफलर से गला घोंटा अपराध छुपाने लाश को माही नदी में फेंका

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने पांच में से दो आरोपियो को गिरफ्तार किया, हत्या में प्रयुक्त जीप जब्त

भास्कर संवाददाता| पेटलावद

थांदला क्षेत्र के ग्राम परवाड़ा के युवक मुकेश पिता बालू अमलियार (26) के कत्ल की गुत्थी रतलाम पुलिस ने सुलझा ली। मुकेश को अपनी प|ी के अवैध संबंधों की जानकारी लग गई थी। इसके बाद प|ी के प्रेमी ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी। आरोपियों ने पहले उसे शराब पिलाई, फिर मफलर से गला घोंट दिया। अपराध को छुपाने के लिए उन्होंने लाश को माही नदी में फेंक दिया था। पुलिस ने पांच में से दो आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ हत्या में प्रयुक्त जीप जब्त की है।

गौरतलब है कि गत 5 दिसंबर का रानीसिंग के पास माही नदी में मुकेश का शव मिला था। उसकी शिनाख्त 6 दिसंबर को रतलाम आईटीआई में पढ़ रहे उसके दोस्त विशाल मईड़ा ने की थी। इसके बाद मर्ग कायम कर रावटी पुलिस ने जांच शुरू की। उसके दोस्त ने बताया मुकेश ने पढ़ाई छोड़ दी और खेती में हाथ बंटाने लगा था। सिलाई सीखने के लिए बड़ी सरवा (राजस्थान) भी जाता था। जांच के दौरान ही उसके घरवालों ने बताया मुकेश तैरना जानता था। वह पानी में डूब नहीं सकता। पिता बालू और बड़े भाई पारू ने हत्या की आशंका जताते हुए कहा मुकेश के मोबाइल पर किसी युवक के फोन आते थे। 2 दिसंबर को किसी का फोन आने के बाद वह छोटे भाई बंटी के जूते पहनकर घर से निकला और तब से गायब था।

इसके बाद मोबाइल कॉल डिटेल निकाली गई। शंका के आधार पर पेटलावद क्षेत्र के ग्राम झौसर में रहने वाले युवक शंकर भूरिया (35) को बुलाकर पूछताछ की गई। जब सख्ती दिखाई तो शंकर ने पूरा सच उलग दिया।

शंकर ने पुलिस को बताया उसने अपने दोस्त दिलीप पिता रुमाल वसुनिया, मुकेश पिता मांगू वसुनिया व कैलाश डामर के साथ मिलकर मुकेश को मारने की साजिश रची। शंकर ने पेटलावद निवासी मुस्तफा पिता सत्तार की जीप किराये पर ली। बामनिया में एक हजार रुपए का पेट्रोल डलवाया और एक हजार रुपए की शराब खरीदकर तीनों दोस्तों के साथ परवाड़ा (थांदला) मुकेश के गांव पहुंचा। जीप मुस्तफा चला रहा था। परवाड़ा में सड़क से फोन लगाकर मुकेश को बुलाया और उसे साथ लेकर चल दिए। इसके बाद शराब पीते हुए जीप में बामनिया, बाजना, शिवगढ़ के रास्ते पर घूमते रहे।

अधिक शराब पीने के कारण मुकेश बेसुध हो गया तो रावटी रेलवे स्टेशन और रानीसिंग के बीच चलती जीप में शंकर, दिलीप, मुकेश पिता मांगू और कैलाश ने मिलकर मुकेश अमलियार की उसके ही मफलर से ही गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद जीप से रानीसिंग आए और लाश को माही नदीं में फेंककर वापस पेटलावद चले गए।

तीन आरोपी को तलाश रहे हैं
हत्या में शामिल मुख्य आरोपी शंकर और जीप चालक मुस्तफा को गिरफ्तार कर लिया है। उनके तीन साथियों की तलाश जारी है। हत्या में प्रयुक्त जीप जब्त कर ली है। सुरेश बलराज, टीआई, रावटी

घर पास-पास है
पेटलावद में आरोपी शंकर और मृतक मुकेश की प|ी लीला के पिता के खेत आसपास हैं। शंकर शादीशुदा है और उसके दो बच्चे हैं। झौसर में शंकर किराना दुकान चलाता है और उसकी बोरवेल खनन मशीन है।

आरोपियों से 15 बार बात की थी मुकेश ने
पुलिस ने जब कॉल डिटेल निकाली तो पता चला घटना वाले दिन आरोपी शंकर ने अपने मोबाइल से 9 बार और जीप चालक मुस्तफा के मोबाइल से 6 बात मुकेश से बात की थी। इसी आधार पर शंकर को पुलिस ने उठाकर पूछताछ की।

शंकर मुस्तफा

मुकेश की प|ी के शंकर से थें अवैध संबंध
मुकेश की शादी पिछले साल दिसंबर में पेटलावद निवासी विजया मईड़ा की बेटी लीला से हुई थी। शादी के पहले ही लीला और शंकर पिता भूंडिया भूरिया निवासी झौंसर-मातापाड़ा के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। दो महीने बाद ही मुकेश को लीला और शंकर के प्रेम संबंध की जानकारी लग गई। इस पर मुकेश ने शंकर को जान से मारने की धमकी दी थी। दोनों के बीच कई बार मोबाइल पर भी बोलचाल हुई। शंकर को शंका थी कि मुकेश उसकी हत्या कर देगा। इसी शंका के चलते उसने दोस्तों के साथ मिलकर 2 दिसंबर की रात मुकेश की हत्या कर शव को रानीसिंग में माही नदी में फेंक दिया।

खबरें और भी हैं...