पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • गुरुद्वारों में शबद कीर्तन हुआ, गुरु का लंगर छका

गुरुद्वारों में शबद-कीर्तन हुआ, गुरु का लंगर छका

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगुरुनानक देव के 546वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में भगवानगंज गुरुद्वारे में सुबह अमृतसर साहिब से आए ज्ञानी गगनदीप सिंहजी ने शबद-कीर्तन किया। फिर एक घंटे तक ज्ञानी सलविंदर सिंह ने कीर्तन किया। दोपहर में करीब 2.15 बजे से गुरु का अटूट लंगर बंटा। इसमें बड़ी संख्या में लोगों ने लंगर खाया। रात में बच्चों के कार्यक्रम हुए। इसके बाद ज्ञानी गगनदीपसिंह जी ने शबद कीर्तन किया। इसके बाद भाई बलविंदर सिंह हजूरी रागी जत्था दरबार साहिब ने अपना विशेष दीवान सजा शबद-कीर्तन गायन किया। इस मौके पर यहां पहुंचे नगर विधायक शैलेंद्र जैन ने 3 लाख रुपए गुरुद्वारे की लाइब्रेरी के लिए देने की घोषणा की। कलेक्टर अशोक कुमार सिंह ने कहा कि देश के प्रति सिख समाज का बड़ा योगदान है। जैसा इनका नाम है, यह लोग एेसा ही करते रहें तो देश और भी आगे जाएगा। इस मौके पर विधायक प्रदीप लारिया, पारुल साहू, अपर कलेक्टर संदीप माकिन, श्री गुरु सिंघ सभा सागर की अध्यक्ष श्रीमती दलबीर कौर कंग, नरेंद्रपाल सिंह दुग्गल, लवप्रीत सिंह दुग्गल, परमिंदर सिंह, सतविंदर सिंह, मंजीत सिंह छावड़ा, गुरजीत सिंह अहलूवालिया, बाबूलाल जैन, संतोष पांडे, पप्पू तिवारी सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। विभिन्न समाज और धर्म के लोगों ने भी यहां शिरकत की।

एमआरसीगुरुद्वारा में हुआ आयोजन : गुरुद्वाराएमआरसी में भी प्रकाश पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। ज्ञानी तरसेम सिंहजी ने शब्द कीर्तन किया। इस मौके पर ब्रिगेडियर ईवी रेड्डी, डिप्टी कमांडेंट जयचंद्रे, एमआरसी के सभी अधिकारी, जवानों सहित बड़ी संख्या में नागरिकों ने शिरकत की। करीब 7 हजार लोगों ने यहां लंगर खाया। पंडितजी एवं बौद्ध मोंक ने गुरुनानकजी की जीवनी पर प्रकाश डाला।

सागर. गुरूनानक जंयती पर भगवानगंज गुरुद्वारे में मत्था टेककर प्रार्थना करतीं सिख समाज की महिलाएं।