• Hindi News
  • National
  • बड़ा सवाल...रातभर होती रही चोरियां, पुलिस को भनक तक क्यों नहीं लगी? जबकि...इन क्षेत्रों में आधा दर्जन

बड़ा सवाल...रातभर होती रही चोरियां, पुलिस को भनक तक क्यों नहीं लगी? जबकि...इन क्षेत्रों में आधा दर्जन से ज्यादा जवान व अफसर तैनात थे

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फ्रीगंज और सुभाषनगर क्षेत्र के मुख्य बाजार में रातभर चोरों ने उत्पात मचाया। गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात 11.30 बजे चोर क्षेत्र में सक्रिय हुए। पहले एक दुकान की छत पर बैठ बड़े आराम से नाश्ता किया। फिर एक-एक कर आठ दुकान-शोरूम से सामान चुराकर ले गए। तीन जगह ताले भी तोड़े लेकिन चोरी नहीं कर सके। यह सिलसिला तड़के 5 बजे तक चला। क्षेत्र में पूरी रात चोरी होती रही और पुलिस को भनक तक नहीं पड़ी। यहां तक कि यहां ड्यूटी कर रहे पुलिस जवान और अफसरों को एक भी चोर दिखाई नहीं दिया, जबकि वे जिस भी शोरूम-दुकान के भीतर-बाहर पहुंचे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए। ऐसा पहली बार हुआ है जब चोरों ने एक ही रात में इतनी ज्यादा जगह हाथ साफ किए। व्यापारियों ने सुबह दुकान-शोरूम खोले तो चोरी का पता चला। उनके मुताबिक चोर चार पहिया वाहन से आए थे। सुभाषनगर की दो दुकानों से चोर सीसीटीवी डीवीआर सिस्टम ही चुराकर ले गए।

8
7
4
3
6
चोरी करते सीसीटीवी में कैद चोर।

यहां हुए चोरी के प्रयास
1. फ्रीगंज में सर्जन डॉ.परेश रॉय के क्लिनिक के तीसरे माले पर दरवाजे की कुंडी तोड़ी लेकिन दूसरा दरवाजा नहीं खोल पाए।

2. सीताराम पिता कैलाश की किराना शॉप के ताले टूटे मिले।

3. सुभाष नगर स्थित भारत गैस के कार्यालय का कांच तोड़कर चोरों ने घुसने का प्रयास किया लेकिन यहां पर उनके प्रयास विफल हो गए।

भगवान संतानी की उत्तम जनरल स्टोर्स के नाम से इसी लाइन में अंडर गारमेंट्स की दुकान है। भगवान संतानी ने बताया दुकान के गल्ले में 90 हजार कैश रखे थे, जो चाेरी हो गए। चोर अंडरगार्मेंट्स भी ले गए।

बोहरा बाखल निवासी असगर अली की फ्रीगंज में परिलोक की लाइन में ही क्वीन एंड क्वीन नाम से वीआईपी बैग्स की दुकान है। चाेर दुकान का ताला तोड़कर 65 हजार रुपए ले गए। चोरों ने अन्य सामान नहीं चुराया।

2
बाबूलाल फागनिया के परिलोक गारमेंट्स से चोरों ने कपड़े, रेनसूट और 90 हजार रुपए कैश चुराए। रात 12.50 बजे चोर परिलोक में दाखिल हुए। दुकान में उन्होंने गंदगी भी कर दी। संभवत: चोर नशे की हालत में थे।

एक ही रात में पुलिस की नाकामी के यह रहे आठ किस्से
खबरें और भी हैं...