पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • बर्बाद फसल लेकर आए किसानों को कलेक्टर आश्वासन भी नहीं दे पाए

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बर्बाद फसल लेकर आए किसानों को कलेक्टर आश्वासन भी नहीं दे पाए

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सहकारी बैंक पहुंचे किसान, मांगी फसल बीमा की राशि
किसान ने एसडीएम से शिकायत की तो उन्होंने मंगवाई माफी

भास्कर संवाददाता|विदिशा

आला अफसरों की अनदेखी और खराब रवैये की वजह से जिले के अन्नदाता बेहाल हैं। सोमवार को अधिकारियों के रवैये से जहां किसान निराश हुए वहीं अधिकारियों का किसानों के प्रति अड़ियल रवैया भी देखने को मिला। ग्राम रामपुर बंधिया और पीपलखेड़ा के किसान घंटों तक बर्बाद फसल दिखाने और मुआवजे की मांग को लेकर कलेक्टर से मिलने का इंतजार करते रहे। जब कलेक्टर अनिल सुचारी किसानों से मिलने आए तो सिर्फ ज्ञापन लेकर गाड़ी में बैठकर चले गए। वे किसानों को उचित आश्वासन भी नहीं दे पाए। ग्रामीणों का कहना था कि वे अपना काम छोड़कर मिलने आए थे लेकिन निराशा ही हाथ लगी। इससे पहले जब किसान कलेक्टोरेट में नारेबाजी कर रहे थे तब डिप्टी कलेक्टर राकेश शर्मा किसानों से मिले। किसान कलेक्टर को ही अपनी समस्या बताना चाहते थे लेकिन वहां मौजूद कर्मचारियों ने कहा कि जब कलेक्टर आएं तब दूर से ही ज्ञापन देना। वहां मौजूद सैनिक ने किसानों को दूर कर दिया। हालांकि कलेक्टर अनिल सुचारी से जब बात की तो उनका कहना था कि किसानों की पूरी बात सुनी है।

खसरा के बदले में ऑपरेटर ने मांगी राशि, एसडीएम की डांट के बाद मांगी माफी
राजस्व महकमे का ढर्रा सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। किसानों से समय पर खसरा, -बी 1 की नकल लेने के लिए अधिक रुपए मांगे जा रहे हैं। सोमवार को ग्राम अहमदपुर निवासी कृषक मोहरसिंह रघुवंशी के एसडीएम आरपी अहिरवार के पास खसरा बी-1 की नकल के लिए निर्धारित शुल्क के अतिरिक्त राशि मांगे जाने को लेकर शिकायत करने पहुंचे। वे पांच दिन पहले वे खसरा बी-1 की नकल निकलवाने के लिए ई-खसरा खिड़की पर पहुंचे तो 120 रुपए शुल्क चुकाने के बावजूद तीन दिन बाद आने का कहा गया था। इसके बाद सोमवार को जब वे दोबारा ई-खसरा खिड़की पर खसरा बी-1 की नकल लेने के लिए गए। इस दौरान कंप्यूटर ऑपरेटर विक्रम शाक्य ने कई किसानों के सामने उनसे नकल के लिए अतिरिक्त रुपयों की मांग की है। इस शिकायत पर एसडीएम श्री अहिरवार ने मौके पर ई-खसरा से जुड़े ठेकेदार को बुलाकर संबंधित कंप्यूटर ऑपरेटर को फटकार लगाई और माफी मंगवाई। इस मामले में एसडीएम आरपी अहिरवार का कहना है कि ये मामला अाया था। किसान जल्दी खसरा चाहते थे। इस संबंध में हमने कर्मचारी को बुलाकर समझाइश दी है।

किसान ज्ञापन देने आए तो कर्मचारी बोले-साहब से दूर रहकर ही ज्ञापन देना
बर्बाद सोयाबीन की फसल लेकर पहुंचे किसान लेकिन कलेक्टर ने नहीं दिया उचित आश्वासन। सैनिकों ने किसानों को दूर से ही ज्ञापन के लिए पीछे हटाया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें