• Hindi News
  • National
  • 8 SIMI Terrorists Who Fled From Bhopal Central Jail Killed In An Encounter

जेल से भागे 8 सिमी आतंकियों को पहाड़ पर घेर कर पुलिस ने किया एनकाउंटर, 9 घंटे में पूरा हुआ ऑपरेशन

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. जेल से भागे सिमी के 8 आतंकियों को एक पहाड़ पर घेर कर पुलिस ने उनका एनकाउंटर कर दिया। ये आतंकी भोपाल सेंट्रल जेल से रविवार तड़के 2-3 बजे भागे थे। मध्य प्रदेश पुलिस ने भोपाल से 10 किमी दूर खेजड़ी गांव में आतंकियों का एनकाउंटर किया। इनमें तीन आतंकी ऐसे थे जो तीन साल पहले खंडवा जेल से भागे थे।बता दें कि सिमी (स्टूडेंट्स स्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया) को 2001 में केंद्र सरकार ने बैन किया था। आतंकियों ने पुलिस पर की फायरिंग, 45 मिनट तक चला एनकाउंटर...
- आतंकी जैसे ही जेल से भागे, पूरे राज्य में अलर्ट घोषित कर दिया गया था। पूरे शहर की घेराबंदी कर दी गई थी।
- इसी बीच, पुलिस को खबर मिली कि आतंकी भोपाल से 10 किमी दूर खेजड़ी गांव में छिपे हुए हैं। गांव वालों की ओर से ये इनपुट मिला था।
- फोर्स जब मौके पर पहुंची तो आतंकी अचारपुरा के पास एक पहाड़ पर छिपे हुए थे। पुलिस ने उन्हें सरेंडर करने को कहा, लेकिन आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने एनकाउंटर में सभी को मार गिराया।
- भोपाल आईजी योगेश चौधरी ने बताया, "ये एक गंभीर मामला था। जेल से भागने के बाद हम खासी सर्चिंग कर रहे थे। ऑपरेशन में एसटीएफ, सीटीसी और जिला पुलिस शामिल थी।"
सीएम ने पुलिस और गांव वालों की तारीफ
- सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एनकाउंटर में मदद करने वाले स्थानीय लोगों और पुलिस फोर्स की तारीफ की है।
- सीएम ने कहा, "हम पुलिस फोर्स को इस कामयाबी के लिए बधाई देते हैं, लेकिन इस घटना को बहुत गंभीरता से ले रहे हैं। आतंकियों का जेल से फरार होना गंभीर मामला है।"
- साथ ही उन्होंने कहा, "फरार आतंकियों के एनकाउंटर में स्थानीय लोगों ने बड़ा रोल निभाया। उन्हीं के जरिए हमें आतंकियों की लोकेशन का पता चला।"
किसी परिचित के पास जा रहे थे आतंकी
- जानकारी के मुताबिक, आतंकी भोपाल से निकलने के बाद किसी परिचित के घर छिपे थे।
- इसी दौरान गांव वालों ने इनके बारे में इनपुट दी।
- जिस गांव में आतंकी छिपे थे, उसकी आबादी 5 हजार है।
- आतंकी जिस परिचित के यहां छिपे थे, पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी।
तुरंत हरकत में आने से पुलिस को मिली कामयाबी
- आतंकियों के फरार होते ही पूरा पुलिस अमला हरकत में आ गया था। रात में ही पुलिस के आला अफसर जेल में पहुंच गए।
- सुबह सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जेल एडीजी और डीआईजी को हटा दिया और आतंकियों को जल्द से जल्द अरेस्ट करने का भरोसा दिलाया।
जेल गार्ड के परिवार को मिली मदद
- जेल मंत्री कुसुम मेहदेले घटना में मारे गए सिक्युरिटी गार्ड रमाशंकर यादव की फैमिली से मिलने पहुंचीं। उन्हें 50 हजार रुपए की मदद दी।
- मेहदेले ने कहा है कि रमाशंकर की फैमिली के एक मेंबर को नौकरी दी जाएगी।
जेल से भागने और एनकाउंटर पर विपक्ष ने उठाए सवाल
1. कांग्रेस ने कहा- ज्यूडिशियल जांच होनी चाहिए
- कांग्रेस के सीनियर लीडर कमलनाथ ने मामले की ज्यूडिशियल जांच की मांग की है।
- उन्होंने कहा कि आतंकी जेल से कैसे फरार हुए, इसका पता लगाया जाना चाहिए।
2. असदुद्दीन औवेसी बोले- आतंकियों ने जूते, बेल्ट कैसे पहन रखे थे?
- "सिमी के आतंकियों को जेल से 10 किमी दूर एनकाउंटर कर दिया गया।"
- "वे ज्यूडिशियल कस्टडी में थे। यानी वे अंडर ट्रायल थे। ये देखने वाली बात है कि वे घड़ी, जूते, बेल्ट पहने हुए थे। अगर उन्हें मारा गया है तो इसका आधार क्या है? कई सवाल खड़े होते हैं। एनकाउंटर के पीछे कोई मजबूत आधार नजर नहीं आता।"
- "मध्य प्रदेश का मालवा आतंकियों का गढ़ माना जाता है। एसटीएफ के पास काफी पावर है। वे अरेस्ट कर सकते थे और उसके बाद पूछताछ की जा सकती थी।"
- "हमारी मांग है कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में पूरे मामले की जांच की जाए।"
खबरें और भी हैं...