--Advertisement--

J&K में चिनाब नदी पर बन रहा रेलवे ब्रिज एफिल टॉवर से 35 मीटर ऊंचा होगा

J&K में चिनाब नदी पर बन रहा रेलवे ब्रिज एफिल टॉवर से 35 मीटर ऊंचा होगा

Dainik Bhaskar

May 03, 2017, 05:31 PM IST
A rail bridge taller than the Eiffel Tower over the Chenab
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर में चिनाब नदी पर दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे ब्रिज बनाया जा रहा है। यह एफिल टावर से भी 35 मीटर ऊंचा होगा। यह 2019 तक बनकर तैयार हो जाएगा। इसे बनाने में करीब 1100 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। चीन का रिकॉर्ड टूटेगा...
- जब यह ब्रिज बनकर तैयार हो जाएगा, तो चीन में बेइपान नदी पर बने 275 मीटर ऊंचे शुइबाई रेलवे ब्रिज का रिकॉर्ड तोड़ देगा।
- इसे बनाने में 24000 टन स्टील का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसकी ऊंचाई 359 मीटर होगी।
- एफिल टावर की ऊंचाई 324 मीटर है। इस तरह यह ब्रिज उससे 35 मीटर ऊंचा होगा।
- यह 1.315 किलोमीटर लंबा है। 260 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं का भी इस पर कोई असर नहीं होगा।
इंजीनियरिंग का अजूबा, टूरिस्ट स्पॉट बनने की उम्मीद
- यह कटरा के बक्कल और श्रीनगर के कौड़ी को आपस में जोड़ेगा। इससे कटरा और बनिहाल के बीच 111 किलोमीटर इलाके की कनेक्टिविटी बढ़ेगी। यह ऊधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक प्रोजेक्ट का हिस्सा है।
- इस प्रोजेक्ट से जुड़े रेलवे मिनिस्ट्री के एक सीनियर ऑफिसर ने बताया, "इस ब्रिज का कंस्ट्रक्शन कश्मीर रेल लिंक प्रोजेक्ट का सबसे चैलेंज वाला हिस्सा है। पूरा होने पर यह इंजीनियरिंग का एक अजूबा होगा।"
- माना जा रहा है कि यह इस इलाके में टूरिस्ट्स के लिए एक बड़ा अट्रैक्शन होगा। इसकी देखभाल के लिए इसमें एक रोपवे भी बनाया जा रहा है।
90 Kmph हवा में खुद ही रेड हो जाएगा सिग्नल
- इस ब्रिज को स्टील से बनाने का फैसला इसलिए किया गया, क्योंकि यह सस्ता है। माइनस 20 डिग्री सेल्सियस टेम्परेचर तक इस पर कोई असर नहीं होगा। यह 250 किलोमीटर से ज्यादा रफ्तार वाली हवाओं को भी सह सकता है।
- रेलवे ने इस ब्रिज में हवा की तेजी पता करने के लिए सेंसर भी लगाए हैं। जैसे ही हवा की रफ्तार 90 Kmph से ज्यादा होगी, सिग्नल रेड हो जाएगा, ताकि ट्रेन को रोका जा सके।
- जम्मू-कश्मीर में आए दिन होने वाले आतंकी हमलों के मद्देनजर इसमें 63 मिलीमीटर (6 इंच से ज्यादा) मोटा ब्लास्ट प्रूफ स्टील लगाया गया है। इसके पिलर भी इस तरह डिजाइन किए गए हैं कि ये धमाके को सहन कर सकें।
15 साल तक जंग से बचाएगा खास पेंट
- जंग से बचाने के लिए इस पर खास तरह का पेंट किया गया है, जो 15 साल तक चलेगा।
- योजना के मुताबिक इस ब्रिज में एक ऑनलाइन मॉनिटरिंग और वॉर्निंग सिस्टम भी लगाया जाएगा, ताकि पैसेंजर्स और ट्रेन की मुश्किल हालात में हिफाजत हो सके।
- इसमें पैदल और साइकिल से चलने वालों के लिए भी अलग से रास्ता होगा।
बनने के बाद कुछ इस तरह नजर आएगा यह ब्रिज। (सिम्बाॅलिक इमेज) बनने के बाद कुछ इस तरह नजर आएगा यह ब्रिज। (सिम्बाॅलिक इमेज)
यह ब्रिज 2019 तक बनकर तैयार होने की उम्मीद है। यह ब्रिज 2019 तक बनकर तैयार होने की उम्मीद है।
X
A rail bridge taller than the Eiffel Tower over the Chenab
बनने के बाद कुछ इस तरह नजर आएगा यह ब्रिज। (सिम्बाॅलिक इमेज)बनने के बाद कुछ इस तरह नजर आएगा यह ब्रिज। (सिम्बाॅलिक इमेज)
यह ब्रिज 2019 तक बनकर तैयार होने की उम्मीद है।यह ब्रिज 2019 तक बनकर तैयार होने की उम्मीद है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..