विज्ञापन

गुजरात में बाढ़ से हालात बेकाबू, मदद नहीं मिलने से बनासकांठा में 25 की मौत

Dainik Bhaskar

Jul 26, 2017, 06:05 PM IST

नॉर्थ गुजरात में लगातार बारिश के चलते बाढ़ आ जाने से बुरा हाल है। राज्य में अब तक 123 लोगों की मौत हो चुकी है।

गुजरात में बनासकांठा का धानेर गुजरात में बनासकांठा का धानेर
  • comment
अहमदाबाद. नॉर्थ गुजरात में लगातार बारिश के चलते बाढ़ आ जाने से बुरा हाल है। राज्य में अब तक 123 लोगों की मौत हो चुकी है। बुधवार को बनासकांठा में रेस्क्यू टीम को 25 लोगों के शव मिले। इसमें 17 लोग एक ही फैमिली के बताए जा रहे हैं। सभी लोगों की बॉडी कीचड़ में फंसी मिलीं। बाढ़ के चलते गुजरात के 5 नेशनल और 53 स्टेट हाईवे पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है। सावरमती समेत कई छोटी-बड़ी नदियां उफान पर हैं। वाटर लेवल बढ़ने के बाद अहमदाबाद में रिवर फ्रंट बंद करना पड़ा। बाढ़ के हालात का जायदा लेने के लिए मंगलवार को नरेंद्र मोदी और सीएम विजय रूपाणी ने हवाई दौरा किया। 1000 मवेशी भी मारे गए...
- बनासकांठा के खारिया में एक परिवार के 17 लोगों बाढ़ में फंस गए थे। वक्त रहते इन्हें मदद नहीं मिली और सभी की मौत हो गई। गांववालों ने रेस्क्यू टीम की मदद से कुल 25 लोगों के शव कीचड़ से निकाले हैं।
- अफसरों के मुताबिक, यहां 6 भाइयों का परिवार एक साथ रहता था। इन 17 शवों के अलावा राणकपुर से 3 और अणदापुरा से 2 और 3 अन्य लोगों के शव भी मिले हैं। उनके शव कीचड़ में फंस गए थे। जिसे फावड़े से खोदकर बाहर निकाला गया। इसके अलावा 1000 से ज्यादा मवेशी मारे गए हैं।
50 हजार लोगों को सेफ जगहों पर पहुंचाया
- गुजरात में 10 जगहों पर आर्मी, एयरफोर्स, बीएसएफ और एनडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव के काम में जुटी हैं। पाटन और बनासकांठा में अलग-अलग जगहों पर फंसे 50 हजार लोगों को सेफ जगहों पर पहुंचाया गया है।
- करीब 100 गांवों का संपर्क कट गया है। 488 गांवों में बिजली ठप हो चुकी है। इस इलाके में रेल सर्विस भी पूरी तरह बंद हो गई है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में सभी स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए हैं।
कौन से इलाके ज्यादा प्रभावित?
- नॉर्थ गुजरात के बनासकांठा, पाटन और साबरकांठा जिलों के 12 तालुकों में मंगलवार को 200 mm से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड हुई। इसके बाद राज्य सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया।
- सीएम विजय रुपाणी ने बताया कि पड़ोसी राजस्थान से बनास और अन्य नदियों का तेज पानी आ रहा है। बनास-बालाराम-अजुर्न और रेल नामक नदियां उफान पर हैं। इसके अलावा बनासकांठा और पाटन जिलों में 14 इंच तक बारिश होने के चलते ऐसी स्थिति बनी है।
मोदी-रूपाणी ने किया था एरियल सर्वे
- नरेंद्र मोदी मंगलवार को हालात का जायजा लेने के लिए अहमदाबाद पहुंचे और यहां अफसरों और मंत्रियों के साथ मीटिंग की। इसके बाद उन्होंने पाटन और बनासकांठा का एरियल सर्वे भी किया।
- मोदी ने गुजरात को 500 करोड़ रुपए की मदद देने का एलान किया। बाढ़ में मारे गए लोगों के परिवारों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे।

X
गुजरात में बनासकांठा का धानेरगुजरात में बनासकांठा का धानेर
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें