आतंकवाद दुनिया के लिए चुनौती, सपोर्ट करने वालों को कीमत चुकानी पड़ेगी: सुषमा / आतंकवाद दुनिया के लिए चुनौती, सपोर्ट करने वालों को कीमत चुकानी पड़ेगी: सुषमा

सुषमा स्वराज ने ब्रिक्स मीडिया फोरम में कहा कि अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा।

dainikbhaskar.com

Oct 18, 2016, 04:20 PM IST
सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है। - फाइल सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है। - फाइल
नई दिल्ली. सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है और जो लोग आतंकियों की मदद कर रहे हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। फॉरेन मिनिस्टर ने यह भी कहा कि- 'आतंकवाद स्टेबिलिटी, प्रोग्रेस और डेवलपमेंट के लिए एक खतरा है, स्टेट स्पॉन्सर्ड और स्टेट प्रोटेक्टेड टेररिज्म सबसे बड़ी चुनौती है।' अच्छे और बुरे आतंकी का भेद खत्म करना होगा...
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सुषमा स्वराज ने ब्रिक्स मीडिया फोरम के इनॉगरेशन के मौके पर कहा- 'ब्रिक्स समिट में यह रजामंदी बनी है कि बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए आतंकवाद के मुद्दे पर समझौता नहीं किया जा सकता।'
- 'जो लोग आतंकियों को मदद कर रहे हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा।'
- बता दें कि सुषमा का यह बयान नरेंद्र मोदी के उस बयान के एक दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा था- 'हमारा एक पड़ोसी आतंकवाद का जन्मदाता है, उसके टेरर मॉडयूल्स दुनिया भर में फैले हैं।'
पाक के साथ कनेक्टिविटी खत्म करने का संकेत
- पाकिस्तान के साथ ट्रांसपोर्ट और कनेक्टिविटी पर कई समझौतों को तोड़ने का संकेत देते हुए सुषमा ने कहा- 'बिम्सटेक देशों के बीच इन मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने का फैसला किया है।'
- 'इस बात पर ज्यादा मतभेद की गुंजाइश नहीं है कि राजनीतिक कारणों से ऐसे देश से ट्रेड और कनेक्टिविटी खत्म कर दी जाए।'
- ब्रिक्स समिट में हुई चर्चा का जिक्र करते हुए सुषमा ने कहा- 'आर्थिक संबंध और राजनीतिक सहयोग हमेशा अहम होते हैं, लेकिन समिट में यह महसूस किया गया कि क्षेत्र में विकास और संपन्नता तभी होगी, जब शांति और सुरक्षा कायम होगी।'
अब नहीं चलेगा बिजनेस का बहाना
- फॉरेन मिनिस्टर ने कहा- हमने आतंकवाद को सिर्फ आर्थिक प्रगति के लिए खतरा नहीं माना है बल्कि बातचीत में इस धारणा पर जोर दिया गया है कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है।
- बिना किसी देश का नाम लिए सुषमा ने कहा कि ब्रिक्स समिट में इस बात पर भी जोर दिया गया कि इंटरनेशनल लेवेल पर बड़े-बड़े तर्क देकर किसी देश के हितों को सुरक्षित नहीं किया जा सकता।
- 'इस बात भी सहमति बनी है कि बिजनेस को भी इसके लिए बहाना नहीं बनाया जा सकता। हमें आतंकी नेटवर्क को सपोर्ट करने वालों को इसके नजीते भुगतने के लिए मजबूर करना होगा।'
- माना जा रहा है कि सुषमा ने यह कहकर चीन के हितों पर चोट की है क्योंकि चीन ने पाकिस्तान में अपने इकोनॉमिक कॉरिडोर प्रोजेक्ट पर अरबों का इन्वेस्टमेंट कर रखा है।
सुषमा ने कहा कि अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा। - फाइल सुषमा ने कहा कि अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा। - फाइल
X
सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है। - फाइलसुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती है। - फाइल
सुषमा ने कहा कि अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा। - फाइलसुषमा ने कहा कि अच्छे और बुरे आतंकियों का झूठा भेद खत्म करना होगा। - फाइल
COMMENT