--Advertisement--

IIT करने वाले पहले CM हैं पर्रिकर, तीसरी बार संभालेंगे गोवा सरकार की जिम्मेदारी

IIT करने वाले पहले CM हैं पर्रिकर, तीसरी बार संभालेंगे गोवा सरकार की जिम्मेदारी

Dainik Bhaskar

Mar 14, 2017, 03:47 PM IST
मनोहर पर्रिकर पहली बार 1994 में विधायक बने थे। (फाइल) मनोहर पर्रिकर पहली बार 1994 में विधायक बने थे। (फाइल)
नई दिल्ली. मनोहर पर्रिकर चौथी बार गोवा के सीएम बन गए हैं। मंगलवार शाम को राज्य के सीएम के तौर पर शपथ ली। वो पहले ऐसे सीएम हैं, जिनके पास आईआईटी की डिग्री है। 61 साल के पर्रिकर को गोवा में बीजेपी को ताकतवर बनाने का क्रेडिट दिया जाता है। 1994 में बने थे विधायक...
- मनोहर पर्रिकर का पूरा नाम मनोहर गोपालकृष्ण प्रभु पर्रिकर है। उनका जन्म 13 दिसंबर 1955 को गोवा के मापुसा में हुआ।
- पर्रिकर की स्कूलिंग मारगो के लोएला हाईस्कूल में हुई। उनकी शुरुआती एजुकेशन मराठी में हुई।
- उन्होंने ग्रेजुएशन मुंबई आईआईटी से की। यहां से 1978 में उन्होंने बीटेक की डिग्री हासिल की।
RSS में अहम जिम्मेदारी निभा चुके
- पर्रिकर युवा रहते आरएसएस में शामिल हुए। उनकी काबिलियत को देखते हुए 26 साल की उम्र में उन्हें गोवा का संघचालक बना दिया गया था।
- वो राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान नॉर्थ गोवा में प्रमुख संगठनकर्ता रहे।
1994 में पहली बार MLA बने
- वो पहली बार 1994 में विधायक बने थे। 1999 में पर्रिकर गोवा विधानसभा में अपोजिशन के लीडर रहे।
- 1994 में पर्रिकर जब पहली बार विधायक बने उस वक्त राज्य में बीजेपी की सिर्फ 4 सीटें थीं, लेकिन पर्रिकर ने 6 साल में ही गोवा में बीजेपी को पहली बार सत्ता दिला दी।
कब-कब रहे सीएम?
पहली बार- 24 अक्टूबर 2000 से 27 फरवरी 2002
दूसरी बार- 03 जून 2002 से 2 फरवरी 2005
तीसरी बार- 9 मार्च 2012 से 8 नवंबर 2014
चौथी बार- 14 मार्च 2017 से अब तक
2005 में गिर गई थी पर्रिकर की सरकार
- जनवरी 2005 में उन्हें मुसीबत का सामना करना पड़ा। उस वक्त उनके 4 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था और उनकी सरकार गिर गई थी।
- अगले विधानसभा चुनाव में बीजेपी को दिगंबर कामत की अगुआई वाली कांग्रेस से हार का सामना करना पड़ा।
- 2012 में अपोजिशन में रहते हुए पर्रिकर ने कांग्रेस सरकार के दौरान हुए माइनिंग स्कैम को उजागर किया।
- 2012 में ही हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 24 सीटें मिलीं और पर्रिकर फिर एक बार सीएम बने।
मोदी भी पर्रिकर की काबिलियत के कायल
- पर्रिकर की एडमिनिस्ट्रेटिव और ऑर्गेनाइजेशन स्किल के नरेंद्र मोदी भी कायल हैं।
- इसी वजह से पीएम ने पर्रिकर को 2014 में अपनी कैबिनेट में लेकर डिफेंस मिनिस्ट्री की जिम्मेदारी सौंपी थी।
- उनके केंद्र में जाने के बाद लक्ष्मीकांत पार्सेकर को गोवा का सीएम बनाया गया था।
परिवार में और कौन है?
- पर्रिकर की पत्नी मेधा अब इस दुनिया में नहीं हैं। 2001 में कैंसर से उनका निधन हो गया था।
- पर्रिकर के दो बेटे, उत्पल और अभिजात हैं। उत्पल ने अमेरिका की मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग किया है। अभिजात लोकल बिजनेसमैन हैं।
डिफेंस मिनिस्टर रहते किए अहम फैसले
1. म्यांमार में सर्जिकल स्ट्राइक: मई 2015 में भारतीय सेना ने म्यांमार में सर्जिकल स्ट्राइक की। इस ऑपरेशन में करीब 100 उग्रवादी मारे गए। दरअसल, 4 जून, 2015 को मणिपुर के चंदेल जिले में उग्रवादियों ने हमला कर सेना के 18 जवानों की जान ली थी। म्यांमार में की गई सर्जिकल स्ट्राइक इसी का बदला थी।
2. राफेल डील पर लगी मुहर: सितंबर 2016 में राफेल फाइटर प्लेन का सौदा पर्रिकर की अगुआई में ही फाइनल हुआ। यह लंबे वक्त से अटका पड़ा था। इसके तहत भारत फ्रांस से 36 राफेल फाइटर प्लेन खरीदेगा।
3. OROP को लागू किया गया: सैनिकों की वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) की मांग भी पर्रिकर के रहते ही पूरी हुई। सेना में करीब 40 से इसकी मांग हो रही थी।
All You Need To Know About Goa CM Manohar Parrikar
X
मनोहर पर्रिकर पहली बार 1994 में विधायक बने थे। (फाइल)मनोहर पर्रिकर पहली बार 1994 में विधायक बने थे। (फाइल)
All You Need To Know About Goa CM Manohar Parrikar
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..