नोटबंदीः संसद में फिर हंगामे के आसार, रणनीति बनाने में जुटी सरकार, बीजेपी ने की मीटिंग

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के सांसदों और विधायकों से उनके खातों से हुए लेन-देन की डिटेल मांगी है। पीएम ने संसद में बीजेपी पार्लियामेंट्री पार्टी की मीटिंग में कहा कि बीजेपी के सभी सांसद-विधायक 8 नवंबर से 31 दिसंबर तक उनके खातों से होने वाले लेन-देन का डिटेल पार्टी प्रेसिडेंट अमित शाह को सौंपें। यह डिटेल 1 जनवरी तक देने को कहा गया है। इधर, मंगलवार को भी लोकसभा-राज्यसभा में हंगामा हुआ। हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गई। उधर लंच के बाद लोकसभा की कार्यवाही शुरू हुई, जिसमें विपक्ष के भारी हंगामे के बीच इनकम टैक्स (सेकंड एमेंडमेंट) बिल पास हो गया। इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही बुधवार दोपहर 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। मोदी ने कहा- हिसाब दें बीजेपी के सांसद-विधायक...
- संसदीय कार्य राज्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा, "पीएम ने बैठक में सभी पार्टी नेताओं से कहा कि हमारा संघर्ष काले धन के खिलाफ है और इनकम टैक्स में जो संशोधन है, वो गरीबों का कल्याण करने वाला है।"
- पीएम ने कहा, "देश को कैशलेस सोसाइटी बनाना है, इसके लिए सभी का सहयोग चाहिए।"
- वेकैया नायडू ने कहा, "आक्रोश रैली फ्लॉप थी। लोग उनकी हंसी उड़ा रहे हैं। समझ में नहीं आता कि विपक्ष बहस को क्यों राजी नहीं हो रहा।"
- बता दें कि विंटर सेशन की शुरुआत 16 नवंबर को हुई थी, लेकिन अब तक दोनों सदन में एक भी दिन सामान्य रूप से कार्यवाही नहीं चल सकी है।
- विपक्षी पार्टियां दोनों सदनों में नोटबंदी पर हंगामा कर रही हैं।
- राज्यसभा में नोटबंदी पर चर्चा शुरू भी हो चुकी है, लेकिन विपक्ष पीएम की मौजूदगी की मांग कर रहा है।
- पिछल हफ्ते गुरुवार को नरेंद्र मोदी एक घंटे कि लिए सदन में पहुंचे थे, लेकिन विपक्ष चाहता है कि पूरी चर्चा के दौरान मोदी मौजूद रहें।
- वहीं, लोकसभा में अपोजिशन की मांग है कि चर्चा वोटिंग वाले नियम के तहत हो।
- सरकार का कहना है कि वे दोनों सदन में चर्चा को राजी है, लेकिन बिना किसी शर्त के। अरुण जेटली कह चुके हैं कि राज्यसभा में पीएम इस मुद्दे पर बयान भी देंगे।
सोमवार को संसद में क्या हुआ था
- सोमवार को भी संसद के दोनों सदनों में हंगामा हुआ था। (पूरी कार्यवाही पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)
- राज्यसभा में विपक्ष पीएम को बुलाने की मांग पर अड़ा रहा।
- लोकसभा में राजनाथ सिंह ने कहा कि चर्चा होने दीजिए। जरूरत पड़ी तो पीएम हस्तक्षेप करेंगे।
खबरें और भी हैं...