• Hindi News
  • Indian Army Asks, Who Is Patrolling The LoC If Not The Pak Army?

क्या सीमा पर पाक सेना नहीं कोई और कर रहा है गश्त?

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. भारतीय सेना ने पाकिस्तान से पूछा, क्या बॉर्डर पर पाकिस्तानी सेना की बजाय कोई और निगरानी कर रहा है? सोमवार को फ्लैग मीटिंग में ब्रिगेडियर टी. एस. संधू के इस प्रश्न को सुनकर पाकिस्तानी अफसर बगलें झांकने लगे। संघू ने यह सवाल मेंढर घटना में पाक सेना के अपने आप को निर्दोष बताए जाने पर पूछा था।
भारत ने इस मीटिंग में साफ कहा, 'पाकिस्तानी सेना अब भविष्य में सीजफायर तोडऩे पर नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहे।' इस बीच, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस मसले पर सुषमा स्वराज और अरुण जेटली से बात की है।
उधर, कृष्णाघाटी बिग्रेड के कमांडर ब्रिगेडियर टी.एस. संधू की अगुवाई में भारतीय दल पुंछ जिले में एलओसी के पास चकन दा बाग चौकी पर फ्लैग मीटिंग के लिए पहुंचा था। पिछले छह माह में ब्रिगेडियर स्तर की यह दूसरी फ्लैग मीटिंग थी। 20 मिनट तक चली इस मीटिंग में भारतीय सेना ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि एलओसी पर स्थिति को भारतीय सेना बहुत करीब से मॉनिटर कर रही है। ब्रिगेडियर टीएस संधू ने शहीद हेमराज के सिर को पाकिस्तान से देने की मांग भी की लेकिन पाक सेना खामोश रही। पाकिस्तानी प्रतिनिधियों ने भारतीय सेना के सभी तथ्यों को सिरे से खारिज कर दिया। उलटा भारत पर ही संघर्ष विराम के उल्लंघन का आरोप लगाया और मामले की जांच संयुक्त राष्ट्र से कराने की मांग की।
पाक को बेनकाब करेंगे: एमआईबी को मिली सूचना के मुताबिक पाकिस्तान की स्पेशल सर्विस ग्रुप जिसमें 653 मुजाहिद रेजीमेंट में, लश्कर-ए- तैयबा और तहरीक-ए- तालिबान के आतंकियों को भी शामिल किया गया है। एमआईबी की रिपोर्ट के मुताबिक अफगानिस्तान की सीमा से जैसे ही अमेरिकी फौजें हटेंगी, तालिबानी आतंकियों को हाफिज सईद भारतीय सीमा की अग्रिम चौंकियों पर तैनात करेगा। यह खुलासा पाकिस्तान के सैनिक अधिकारियों और लश्कर के मुखिया के बीच हुई बातचीत में हुआ है। एमआईबी ने इस बातचीत को इंटरसेप्टर किया था। भारत ने अपने तमाम राजनयिकों को यह निर्देश दिया है कि वे कूटनीतिक मंचों पर पाकिस्तान का चेहरा बेनकाव करें। ऐसे में भारत ने न सिर्फ अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप के प्रमुख देशों के साथ-साथ रूस और चीन को भी आगाह किया है कि एशिया महाद्वीप में पाकिस्तान फिर एक बार अशांति फैलाना चाहता है। भारतीय राजनयिक जो खासतौर से खाड़ी देशों में मौजूद हैं वो भी इस बात को अपने तरीके से वहां रखेंगे।