• Hindi News
  • Kalpesh Yagnik Article On India And Pakistan Relations

आखिर क्यों कट जाते हैं हमारे सिर ?

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जब तक मेरे शहीद पति का सिर सरकार मेरे गांव नहीं लाती, तब तक मुझे चैन नहीं मिलेगा।
- शहीद हेमराज की पत्नी धर्मवती (8 जनवरी 2013 को मेंढर में लांसनायक हेमराज का सिर पाक फौज ने काट दिया।)
कब तक सरकार शांत बैठी रहेगी, पाक से मैच खेलती रहेगी, सांस्कृतिक कार्यक्रम करती रहेगी।
- शहीद सौरभ कालिया के पिता एन.के. कालिया (1999 के करगिल युद्ध में कैप्टन कालिया की देह पाक ने क्षत-विक्षत कर लौटाई थी)
शेरनगर की मीना सिंह सचमुच शेरनी हैं। बेटा था उनका हेमराज। लांसनायक था। अब नायक है। हीरो। मथुरा का, उत्तर प्रदेश का, सारे देश का। सिर झुकाया नहीं। मां ने यही तो कहा कि ‘वो काट सकते हैं, झुका नहीं सकते।’
दढिय़ा गांव सीधी जिले में है। सीधा सरल ही तो था सुधाकर सिंह। पत्नी दुर्गा देवी, मानों दुर्गा ही बन गई। लोगों की सलामी के बीच तेजस्वी चेहरा लिए। बोली मुझे भी फौजी बना दो। मध्यप्रदेश ही नहीं, देश का मान रखा पति ने।
इलाहाबाद के सीआरपीएफ जवान बाबूलाल पटेल का सामना पाकिस्तानियों से नहीं, नक्सलियों से हुआ। झारखंड में मुठभेड़ के दौरान शहीद इस जांबाज को काट कर नृशंसता का सबसे निकृष्ट उदाहरण देते हुए नक्सलियों ने उनके भीतर बम लगा दिया। देश सकते में आ गया। हालांकि अब आ रहा है कि शक्तिशाली विस्फोटक का पाक की कुख्यात खुफिया आईएसआई से संबंध है।
ऐसे बर्बर हमले आखिर हम पर क्यों हो रहे हैं? क्यों होते ही रहते हैं? प्रश्न बहुत पुराना और अनुत्तरित है। कुछ अनुमान यहां लगाए जा रहे हैं-
(लेखक दैनिक भास्कर समूह के नेशनल एडिटर हैं।)
इस कॉलम पर आपके विचार 9223177890 पर एसएमएस करें। फेसबुक यूजर Bhaskar Leadership Journalism पेज पर जाकर प्रतिक्रिया दे सकते हैं।