महाकुंभ से होगी 12 हजार करोड़ रुपए की कमाई

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्‍ली। उद्योग एवं व्यापार सम्बन्धी प्रमुख संगठन (एसोचैम) ने 14 जनवरी से शुरू हो रहे महाकुंभ में 12 हजार करोड़ रुपए की कमाई के अलावा छह लाख लोगों के रोजगार की संभावना व्यक्त की है। एसोचैम का मानना है कि एयरलाईन्स, होटल और पर्यटन ऑपरेटर की कमाई धमाकेदार होगी तथा इससे 12 हजार करोड़ रुपए मिलेंगे। इसके अलावा छह लाख लोगों को रोजगार भी मिलेगा। असंगठित क्षेत्र को महाकुंभ से खासा फायदा होगा। एसोचैम ने कहा है कि 14 जनवरी से 10 मार्च तक होने वाले महाकुंभ मेले के दौरान दस लाख विदेशी पर्यटक भारत आयेंगे। इनमें अधिकतर के महाकुंभ में आने की संभावना है। एसोचैम के प्रमुख महासचिव डी.एस. रावत के अनुसार आस्ट्रेलिया, अमेरिका, कनाडा, मलेशिया, ङ्क्षसगापुर, मॉरीशस, जिम्बाम्वे तथा श्रीलंका से पर्यटकों के आने की ज्यादा संभावना है।
विदेशी पर्यटकों से बात करने ढाई हजार प्रशिक्षित महाकुंभ में आने वाले विदेशी पर्यटकों को जानकारी देने तथा उनसे सलीके से बात करने के लिये ढाई हजार लोगों को प्रशिक्षित किया गया है। जिला प्रशासन ने पहली बार यह काम किया है ताकि किसी विदेशी मेहमान को कोई परेशानी नहीं हो। प्रशिक्षित लोगों में 180 रेलवे के कुली, 1328 टैक्सी और ऑटो चालक, 288 राजकीय रेल पुलिस के जवान हैं। इन्हें विदेशी मेहमानों से अंग्रेजी में बात करने का खास प्रशिक्षण दिया गया है।
होटलों में नहीं होगी जगह
महाकुंभ के दौरान इलाहाबाद समेत पूरे उत्तरप्रदेश के होटलों में जगह नहीं होगी। आमतौर पर होटलों के कमरे 70 प्रतिशत भरे होते हैं लेकिन 55 दिन के महाकुंभ में होटलों में कमरे खाली नहीं मिलेंगे। इस तरह होटलों की कमाई 25 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी।
इनकी होगी चांदी
राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एयर लाइंस के अलावा रेलवे की कमाई इस दौरान डेढ़ हजार करोड़ रुपए ज्यादा होगी। होटल उद्योग में ढाई लाख लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। चिकित्सा पर्यटन तथा ईको पर्यटन से 45 हजार लोग रोजगार पाएंगे। 85 हजार पर्यटन गाईड और दूभाषिए भी रोजगार पाएंगे।