FLASH BACK: दामिनी की कहानी, सपने, संघर्ष और दरिंदगी का सच

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली में क्रिसमस के एक दिन पहले दोपहर का समय। एक युवती ने अपने दोस्त को कॉल कर कहा जल्दी उठो पहले ही देर हो चुकी है। इसके बाद टाइम तय कर युवती और उसका दोस्त दिल्ली के सिटी वॉक मॉल पहुंचते हैं। फिल्मों की शौकीन यह युवती अपने दोस्त के साथ यहां लाइफ ऑफ पाई देखती है। उसी सीट पर जहां वह पहले कुछ दिन पहले गुलिवर्स ट्रैवल्स देख चुकी थी, फिल्म खत्म होती है दोनों साथ निकलते हैं और कुछ घंटे बाद युवती और उसका दोस्त बिना कपड़ों के बहदवास अवस्था में एक प्राइवेट बस से सड़क पर फेंक दिए जाते हैं। दोनों के साथ लोहे की छड़ से बेरहमी से मारपीट की गई थी और युवती के साथ तो छह लोगों ने वहशियाना तरीके से रेप भी किया गया था।
जी हां यह दास्तान है दिल्ली में गैंगरेप पीड़िता की जिसने दो सप्ताह तक जिंदगी से लड़ते हुए सिंगापुर के अस्पताल में दम तोड़ दिया था।
कौन थी यह युवती, क्या थे उसके सपने, कैसा था उसका परिवार, क्या हुआ उसके साथ जानने के लिए क्लिक करें आगे की तस्वीरें...