• Hindi News
  • President Rule Might Be Imposed In Jharkhand

झारखंड में राष्ट्रपति शासन के आसार

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. झारखंड में राष्ट्रपति शासन की संभावनाएं बढ़ गई हैं। राज्यपाल डॉ. सैयद अहमद ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट भेज दी है। इस पर केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया जाएगा। रांची में राज्यपाल के प्रधान सचिव आदित्य स्वरूप ने कहा कि राज्यपाल की रिपोर्ट में राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा नहीं है। केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने बुधवार को कहा कि राज्यपाल की प्रारंभिक रिपोर्ट उन्हें मिल गई है। उस पर विचार किया जा रहा है। एक-दो दिन में फैसला ले लिया जाएगा। कांग्रेस के बुलावे पर दिल्ली पहुंचे झामुमो विधायक दल के नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि जब तक कोई फैसला नहीं हो जाता, इस पर टिप्पणी करना उचित नहीं होगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति शासन भी लोकतांत्रिक व्यवस्था का ही हिस्सा है। कांग्रेस को कैबिनेट के फैसले का इंतजार कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी शकील अहमद ने कहा कि कैबिनेट के फैसले के बाद ही बातचीत की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।
कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि झारखंड में फिलहाल राष्ट्रपति शासन लगेगा, विधानसभा निलंबित रहेगी। इस दौरान कांग्रेस झामुमो से सरकार बनाने की प्रक्रिया पर बातचीत करेगी। अगर कांग्रेस की शर्तों पर सकारात्मक बातचीत होती है तो गठजोड़ बन सकता है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कहा है कि विधानसभा को भंग करने के बजाय निलंबित रखना चाहिए। वहीं, झारखंड पीपल्स पार्टी के प्रमुख सूर्य सिंह बेसरा ने कहा है कि विधानसभा भंग कर फिर से चुनाव होने चाहिए। बेसरा का कहना है कि वह गुरुवार को राज्यपाल को ज्ञापन देंगे।
राजनीतिक हलचल तेज
झारखंड के हालात को लेकर राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। कांग्रेस के 10 विधायक बुधवार शाम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल से मिले। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस नेतृत्व फिलहाल जल्दबाजी में नहीं हैं। ये विधायक कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी से भी मिले। वहीं, झामुमो नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार बनाने के लिए कांग्रेस से उनकी बातचीत प्रारंभिक दौर में है। दूसरी तरफ, भाजपा नेता गुरुवार को राज्यपाल से मिलकर जल्द फैसला करने का आग्रह करेंगे। रांची में झाविमो अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, विधायक बंधु तिर्की और चमरा लिंडा राज्यपाल से मिले। मरांडी ने राज्यपाल से राज्य में चुनाव कराने की अनुशंसा करने का आग्रह किया।
झारखंड में अब दलीय स्थिति
-विधानसभा की कुल सदस्य संख्या- 82
-साधारण बहुमत के लिए जरूरी - 42
- भाजपा के साथ -26 (भाजपा-18, आजसू-
6 और जदयू-2)
- भाजपा से अलग -56 (झामुमो-18, कांग्रेस
13, झाविमोप्र-11, राजद-5 निर्दलीय-6, एक
मनोनीत* सहित अन्य -3)
(*मनोनीत सदस्य को मतदान का अधिकार है)