पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

साइट पर बेटी के लिए वर ढूंढना पड़ा महंगा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद लॉस एंजिलिस में एक मल्टीनेशनल कंपनी में ऊंचे ओहदे और मोटी तनख्वाह पर नौकरी कर रही बेटी के लिए मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर वर ढूंढने का प्रयास करना एक परिवार को भारी पड़ा। परिवार का आरोप है कि विदेश में मौजूद भारत का ही एक युवक कई बार पिता द्वारा बनाए इस मैट्रिमोनियल अकाउंट को हैक कर उनके समाज से जुड़े लोगों को उनकी बेटी के चरित्र के बारे में उल्टे सीधे ई-मेल कर बदनाम करने का प्रयास कर चुका है। इसका खामियाजा परिवार को बेटी का रिश्ता टूटने के रूप में चुकाना पड़ा है। पीडि़त परिवार की शिकायत पर दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने आईटी एक्ट की धारा 66 के तहत वसंत कुंज निवासी जितेंद्र सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पीडि़त परिवार की शिकायत पर पुलिस जितेंद्र पर पहले भी मुकदमा दर्ज कर चुकी है। स्पेशल सेल ने इस मामले की जांच की। आरोपी फिलहाल लॉस एंजिलिस में रहता है, इसलिए पुलिस अब तक उसे गिरफ्तार नहीं कर सकी है। उक्त मामले में तीस हजारी अदालत पहले ही उसे भगोड़ा घोषित कर चुकी है। बाद में आरोपी ने दिल्ली हाईकोर्ट में अपील की, जिसे अदालत ने ठुकरा दिया और दिल्ली पुलिस को यह निर्देश दिया कि वह जल्द से जल्द उसे अपनी कस्टडी में ले। लेकिन अदालत के निर्देश के बावजूद पुलिस अब तक आरोपी को गिरफ्तार करने में विफल रही। अधिकारी के मुताबिक फिलहाल आरोपी ने दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील लगा रखी है। इसका नतीजा आना अभी बाकी है।
पीडि़त परिवार का आरोप है कि पुलिस की विफलता का फायदा उठाते हुए अपराधी ने एक बार फिर युवती के पिता का पासवर्ड हैक कर परिवार को बदनाम करना शुरू कर दिया है। अपनी शिकायत में परिवार ने बताया कि जितेंद्र उनकी बेटी का रिश्ता तुड़वाने का हरसंभव प्रयास कर चुका है। वह पुलिस को लॉस एंजिलिस स्थित जितेंद्र के घर का पता भी मुहैया करा चुके हैं। पीडि़ता की मां ने शिकायत में बताया कि बीते वर्ष सितंबर में आरोपी ने उन्हें एक धमकी भरा एसएमएस कर कहा था कि ‘तुम मुझे नजरअंदाज कर रहे हो। तुम खुद-ब-खुद ही अपना घर तबाह कर लोगे। खुशियां कभी लाई नहीं जातीं।’ परिवार ने यह सभी डिटेल पुलिस को मुहैया करा दी है। अपराधी को पकडऩे के लिए पुलिस फिलहाल अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास से भी मदद लेने पर विचार कर रही है।
27 फरवरी की खास खबरें