No Fake News

  • Home
  • No fake news
  • Reality of RBI Ban 500 2000 Rs New written Notes from 8 Dec Due to Gujarat Election
--Advertisement--

#NoFakeNews: 8 दिसंबर से बंद होंगे 500-2000 के ऐसे सभी नए नोट्स?

इंटरनेट पर खबर वायरल हो रहा है कि RBI ने नया नियम निकाला। जिसमें 8 दिसंबर से खास क्राइटेरिया के नए नोट अवैध हो जाएंगे।

Danik Bhaskar

Nov 15, 2017, 01:24 AM IST

नई दिल्ली. इंटरनेट पर एक ऐसी खबर और मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया कि आरबीआई ने नया नियम निकाला है जिसमें 8 दिसंबर से खास क्राइटेरिया के नए नोट अवैध हो जाएंगे। देश का कोई भी बैंक ऐसे नए नोटों को नहीं लेगा। DainikBhaskar.com इसी वायरल दावे को इन्वेस्टिगेट कर रहा है…

 


वायरल क्या हुआ?

 

- वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि आरबीआई ने नया आदेश जारी किया है। इसके मुताबिक ऐसे नए नोट पूरी तरह से रद्दी कहलाएंगे जिनमें धार्मिक, पॉलिटिकल या बिजनेस से जुड़ा मैसेज या कोई ऑब्जेक्शनेबल वर्ड लिखा होगा। बैंक इन्हें नहीं लेंगे।

- इसी से जुड़े एक अन्य मैसेज में कहा जा रहा है कि 8 दिसंबर से खास तरीके के नए नोट अवैध घोषित हो जाएंगे। जल्दी से बैंकों में जमा कर दें। गुजरात चुनाव में अपनी हार का अनुमान लगाते हुए सरकार के कहने पर आरबीआई ने ऐसा किया है। 


 

हमारी इन्वेस्टिगेशन में सामने आई ये सच्चाई

 

- वायरल मैसेज में दावा आरबीआई से जुड़ा है, इसलिए सच जानने के लिए हमने सीधे आरबीआई के ऑफिसर्स से बात करना सही समझा।

- वायरल मैसेज में किए गए दावे के इन्वेस्टिगेशन के दौरान DainikBhaskar.com ने RBI के स्पोक्सपर्सन जोस कटूर से बात की। उन्होंने बताया कि RBI के मास्टर सर्कुलर के पैरा 6 (3) iii में साफ लिखा है कि पॉलिटिकल, रिलिजियस या बिजनेस से जुड़ा मैसेज, स्लोगन या कोई ऑब्जेक्शनेबल वर्ड लिखा नोट वैलिड नहीं माना जाएगा। 

- कटूर का कहना है कि ये नियम नया नहीं है। बल्कि, 2016 के 'एक्सचेंज ऑफ नोट्स' नोटिफिकेशन से जुड़ा है। उन्होंने हमसे इस नोटिफिकेशन की कॉपी भी शेयर की। ताकि रीडर्स झूठी वायरल खबर का सच जान सकें।

 

(RBI का नोटिफिकेशन पढ़ने के लिए क्लिक करें)

 

 

इन्वेस्टिगेशन रिजल्ट:

 

सोशल मीडिया पर किया जा रहा ये दावा आधा सच और आधा झूठ है। सच ये है कि आरबीआई पॉलिटिकल, रिलिजियस या बिजनेस से जुड़ा मैसेज, स्लोगन या कोई ऑब्जेक्शनेबल वर्ड लिखा नोट लीगल नहीं मानता है। लेकिन झूठ ये है कि गुजरात चुनाव के चलते ऐसे नोट्स 8 दिसंबर से बंद हो रहे हैं क्योंकि इस संबंध में नियम 2016 से ही लागू है। 

Click to listen..