पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • हरियाणा चुनाव ने बढ़ाई िशअद से खटास: कमल

हरियाणा चुनाव ने बढ़ाई िशअद से खटास: कमल

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपाप्रदेशप्रधान का मानना है कि हरियाणा विधानसभा चुनाव के बाद पंजाब में अकाली दल के साथ रिश्तों में खटास आई है। वहां हम सरकार बनाने के लिए लड़ रहे थे और अकाली दल विरोधियों के साथ खड़ा था। भाजपा चाहती थी कि हरियाणा में मुख्यमंत्री परकाश सिंह बादल भाजपा के पक्ष में प्रचार करें। बादल ने इनेलो के लिए प्रचार किया जिसका असर पंजाब में दोनों के रिश्तों पर पड़ा।

ज्यादासीटों पर लड़ेंगे

कमलशर्मा ने कहा कि दिसंबर में होने वाले नगर निगम और कौंसिल चुनाव में भाजपा पहले से अधिक सीटों पर हक जताएगी। जिन शहरों में पहले से भाजपा की मजबूत पकड़ है, वहां मेयर भी भाजपा का ही होगा।

परिवारवादसही नहीं

परिवारवादकी राजनीति पर कमल ने कहा कि भाजपा हमेशा से परिवारवाद के खिलाफ रही है। अब गठबंधन पार्टी में अगर इस तरह की विचारधारा है तो वह क्या कर सकते हैं। कमल से पंजाब में पिता मुख्यमंत्री और बेटा उप-मुख्यमंत्री को लेकर भाजपा का स्टैंड पूछा गया था।

हर बूथ से रखा सौ मेंबर्स का टार्गेट

सूत्रोंके अनुसार भाजपा ने हर बूथ से कम से कम 100 मेंबर भर्ती करने का टार्गेट रखा है। सूबे में करीब 2145 बूथ हैं। पार्टी अगर पंजाब में लक्ष्य हासिल कर लेती है तो अकाली दल के साथ भाजपा का ‘ब्रेकअप’ हो सकता है।

कपूरथला | भाजपाऔर शिअद का गठबंधन राज्य और देश के हित में है। भाजपा हाईकमान शिअद से गठबंधन तोड़ने का खतरा मोल नहीं ले सकता। यह बात सीएम परकाश सिंह बादल ने सुल्तानपुर लोधी में वीरवार को प्रकाश पर्व पर आयोजित कार्यक्रम के बाद कही। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच कोई कलह नहीं है। गठजोड़ के बाद हर फैसला आपसी सहमति से लिया गया है।