पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इराक में मारे गए युवकों के परिवार अवशेष लेने अमृतसर पहुंचे, पता चला सूचना गलत है

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बलाचौर/ अमृतसर.  इराक में आतंकियों के हाथों मारे गए बलाचौर के गांव जगतपुर व मैहंदपुर के परविंदर व जसवीर के परिवार प्रशासन में तालमेल की कमी की वजह से परेशान हुए। जिला प्रशासन ने उन्हें यह कहकर अमृतसर बुला लिया कि युवकों के अवशेष बुधवार को पहुंच जाएंगे। गांव वाले उनके अंतिम संस्कार की तैयारी  में जुटे रहे। परिजन एयरपोर्ट पर बैठे रहे, बाद में पता चला कि आज अवशेष आने ही नहीं हैं। मृतक परविंदर के ससुर सुरजीत सिंह व मामा कश्मीर सिंह ने बताया कि मंगलवार शाम ही डीसी अमित कुमार उनके घर आए थे।  उन्होंने बुधवार सुबह उन्हें अमृतसर एयरपोर्ट जाने के लिए तैयार रहने को कहा।

 

करीब एक हफ्ता लगेगा अवशेष आने में: कैप्टन

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह कहा है कि युवकों के अवशेष जल्द भारत लाने के लिए उन्होंने विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह से बातचीत की है। वीके सिंह ने कहा है कि अवशेष आने में अभी करीब एक हफ्ता लगेगा। कैप्टन ने कहा कि उनकी सरकार मृतकों के पारिवारिक सदस्यों के लिए रोजगार मुहैया कराने के साथ ही पहले से दी जा रही हर महीने 20,000 रुपए की मुआवजा राशि भी जारी रखेगी।

 

हमने सतर्क रहने के लिए कहा था
अमृतसर डीसी कमलदीप सिंह संघा का मामले पर कहना है कि विदेश मंत्रालय से आदेश आए थे कि सभी जिलों को सतर्क रहने को कहा जाए। मृतकों के अवशेष कभी भी आ सकते हैं। मैंने अवशेष आने की बात नहीं कही। 
 

फोन आने के बाद किए थे प्रबंध

नवांशहर डीसी अमित कुमार के मुताबिक, अमृतसर के डीसी ऑफिस से फोन आया था, जिसके बाद ही हमने प्रबंध किए थे। परिवारों के साथ प्रशासन की पूरी हमदर्दी है।  

खबरें और भी हैं...