• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • मीडिया कर्मियों पर हमले से देश को आगाह कर गए बुद्धिजीवी

मीडिया कर्मियों पर हमले से देश को आगाह कर गए बुद्धिजीवी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अमृतसर|पत्रकार गौरीलंकेश की हत्या और इससे पहले तथा बाद में मीडिया कर्मियों पर लगातार हो रहे हमले देश, समाज, प्रेस की आजादी और लोकतंत्र के लिए खतरा हैं।

यह विचार विरसा विहार में फोकलोर रिसर्च अकादमी की तरफ से करवाए गए सेमिनार में देश के विभिन्न हिस्सों से पहुंचे पत्रकारों और बुद्धिजीवियों ने व्यक्त किए। साउथ एशिया फ्री मीडिया एसोसिएशन के राष्ट्रीय सचिव एवं वरिष्ठ पत्रकार सतीश जैकब ने कहा कि देश के आम लोगों की आवाज दबाने के लिए मीडिया कर्मियों पर हमले हो रहे हैं। इसे सियासी पार्टियां और उनके तथाकथित पैरोकार अंजाम दे रहे हैं। जनसत्ता केे पूर्व संपादक ओम अवस्थी ने कहा कि ये देश और समाज के लिए खतरनाक संकेत हैं। प्रसिद्ध पत्रकार सीमा मुस्तफा, पत्रकार भारत भूषण, कश्मीर टाइम्स की पत्रकार अनुराधा जमवाल, पत्रकार सतनाम माणक, ने अपने विचार रखे। सेमिनार में साफमा पंजाब चैप्टर, माझा विरासत ट्रस्ट अजनाला, चंडीगढ़ पंजाब जर्नलिस्ट एसोसिएशन, विरसा विहार सोसायटी, पीस एंड हारमनी आस्ट्रेलिया ने सहयोग किया।

खबरें और भी हैं...