पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Political Parties Told Scramble By SI Abuse Of Power

भाजपाईयों की SI से हाथापाई, कांग्रेसी बोले- दबाव में पुलिस, BJP को सौंप दे थाने

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अमृतसर. स्टूडेंट्स का चालान काटने का विरोध करने पर पार्षद को डीसीपी दफ्तर लाने से गुस्साए भाजपा नेताओं की तरफ से ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर बलदेव राज के साथ हाथापाई करने की राजनीतिक दलों के नेताओं ने सत्ता का दुरुपयोग बताया है। उनका कहना है कि कानून को हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं होनी चाहिए। कांग्रेसियों ने तो यहां तक कह दिया कि पुलिस दबाव में आ गई है, थानों और नाकों की जिम्मेदारी भाजपा नेताओं को सौंप देनी चाहिए। इतना ही नहीं पुलिस विभाग के कर्मी भी इस मामले से खासे आहत हैं।
कई ट्रैफिक कर्मचारियों ने तो अपनी चालान बुक दफ्तर में जमा करवा दी और पूरा दिन किसी भी वाहन को रोककर दस्तावेज चेक नहीं किए। चौराहों से नाके हटा लिए गए। हालांकि पुलिस अधिकारी यही कह रहे हैं कि गुरुपर्व के कारण चालान नहीं किए जा रहे। गौरतलब है कि एक हफ्ते में दौरान यह दूसरा मामला है। जब चालान काटने को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया और हाथापाई कर कर्मियों की वर्दी पर हाथ डाला।

मेयर और अन्य पर हो पर्चा
नाॅर्थ हलका कांग्रेस के इंचार्ज करमजीत सिंह रिंटू बोले कि भाजपा के सियासी हस्तक्षेप के आगे पुलिस ने घुटने टेक दिए हैं। पुलिस अधिकारी से हाथापाई करने के आरोप में मेयर बख्शी राम अरोड़ा सहित वहां मौजूद सभी भाजपाइयों पर पर्चा दर्ज होना चाहिए। डीसीपी विक्रमपाल सिंह भट्टी ने एकतरफा कार्रवाई की है, इससे पुलिस का मनोबल गिरेगा। चंडीगढ़ में ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर नेता से लेकर अधिकारियों के भी चालान काटे जाते हैं।

वर्दी पर हाथ डालना गलत
जिला कांग्रेस देहाती के प्रधान गुरजीत सिंह औजला ने कहा कि सब इंस्पेक्टर की शिकायत उच्चाधिकारियों से की जा सकती थी, पुलिस कर्मी की वर्दी पर हाथ डालना गुंडागर्दी है। पुलिस ने वीरवार को शहर से नाके उठा दिए हैं, इतना ही दबाव है तो थानों का काम भाजपाइयों को सौंप देना चाहिए।

नाके हटाना सही नहीं
अकाली दल शहरी के जिला प्रधान उपकार सिंह संधू ने कहा कि ट्रैफिक पुलिस के खिलाफ शिकायतें काफी हैं, लेकिन किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए। पार्षद की रिस्पेक्ट होनी चाहिए, वहीं अफसरों को भी रिस्पेक्ट देनी बनती है। नाके हटाए जाना गलत है।

आम आदमी का क्या होगा
आम आदमी पाटी के नेता डॉ. दलजीत सिंह बोले, जब पुलिस ही सुरक्षित नहीं तो आम आदमी का क्या होगा? अनुशासन कायम रख जाना जरूरी है। नाके नहीं हटाए जाने चाहिए, अगर कोई अधिकारी या मुलाजिम ड्यूटी के दौरान मिसबिहेव या लापरवाही करता है तो कानून के मुताबिक एक्शन हो।

भाजपा अल्ट्रा अग्रेसिव हुई
सीपीआई के जिला सचिव अमरजीत सिंह आसल ने कहा कि भाजपा पहले अकाली दल के प्रैशर में दबी हुई थी, केंद्र में सरकार आने के बाद अब अल्ट्रा अग्रेसिव हो गई है है। मनमानियों पर उतरे भाजपा नेता पब्लिक और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ धक्केशाही करने से भी परहेज नहीं कर रहे। उन्हें कानून की भी परवाह नहीं।

जनप्रतिनिधि जिम्मेदारी समझें
वॉयस आफ अमृतसर की उपप्रधान इंदू अरोड़ा ने कहा कि जन प्रतिनिधि जनता के प्रति जवाबदेह हैं, और उन्हें अपनी जिम्मेदारी भी समझनी चाहिए। किसी मुलाजिम या अधिकारी की गलती पर उसकी उच्चाधिकारियों से शिकायत की जा सकती है। पुलिस अधिकारी से हाथापाई की नौबत आना गलत है। पावर में होने का मतलब यह नहीं कि कोई कुछ भी कर सकता है, कानून के दायरे में रहना जरूरी है।

हाथापाई नहीं की: मेयर
मेयर बख्शी राम अरोड़ा ने कहा कि भाजपा नेताओं ने किसी से हाथापाई नहीं की। नेताओं के साथ भाजपा पार्षद से किए गए बुरे व्यवहार की शिकायत लेकर डीसीपी दफ्तर गए थे और कार्रवाई की मांग की थी। दफ्तर से बाहर निकले तो कुछ लोग सब इंस्पेक्टर बलदेव राज से उलझ रहे थे, वे बच्चों के पेरेंट्स थे, जिनके चालान काटे गए थे।

कल से लगेंगे नाके
डीसीपी बिक्रमपाल सिंह भट्टी ने कहा कि नाके केवल गुरुपर्व के कारण नहीं लगाए गए हैं। शुक्रवार को फिर से नाके लगेंगे।
सही तरीके से ड्यूटी निभाने की सजा मिली
मैं स्कूल के बाहर खड़ा वाहनों के कागज चेक कर रहा था। दो बच्चों को रोककर दस्तावेज देखने चाहे तो उन्होंने फोन कर पार्षद सुरेश महाजन को बुला लिया। पार्षद ने कुछ और बच्चों को बुलाकर नारेबाजी शुरू करवा दी। इतने में एडीसीपी ध्रुमन आ गए। उन्होंने बच्चों के साथ बात की और पार्षद को गाड़ी में बैठा डीसीपी दफ्तर आने के लिए कह दिया। इसी बात से वह भड़क गए। यह कहना है सब-इंस्पेक्टर बलदेव राज का। जिनकी बुधवार को चालान काटने को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओंं के साथ कहासुनी हो गई और उन्हें सस्पेंड कर दिया गया। वहीं बलदेव राज वीरवार को 15 दिन की छुट्टी पर चले गए हैं। बलदेव राज ने कहा कि उनके साथ हाथापाई की गई, उनकी वर्दी पर हाथ डाला गया। उन्हें अपनी ड्यूटी अच्छे तरीके से करने की सजा मिली है।
(फोटो- ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर बलदेव राज)