• Hindi News
  • SAD BJP Government Closed The Industry In Punjab: Caption

अकाली-भाजपा सरकार ने पंजाब से इंडस्ट्री को खत्म कर दिया : कैप्टन

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

अमृतसर. अकाली-भाजपा सरकार ने पंजाब में इंडस्ट्री को खत्म कर दिया। रेत, बजरी व ईंटों की काला बजारी के बाद कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री तबाह हो गई। बाकी बची हुई इंडस्ट्री अन्य राज्यों का रुख कर रही है। यह शब्द लोकसभा चुनावों के लिए अमृतसर से कांग्रेस के उम्मीदवार कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने 100 फुट्टी रोड़ पर आयोजित रैली के दौरान कहे।

उन्होंने कहा कि पंजाब में 300 से अधिक कॉलेज हैं। जहां से हर साल हजारों की संख्या में युवा पढ़ाई पूरी कर निकलते हैं। लेकिन सरकार को उनकी नौकरियों व उनके भविष्य का बिल्कुल ख्याल नहीं है।

इंडस्ट्री के चले जाने के बाद पंजाब में रोजगार के अवसर खत्म हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने खजाना खाली कर दिया है। व्यापारियों को वैट रिफंड के पैसे नहीं दिए जा रहे, मुलाजिमों को वेतन नहीं मिल रहा, नौकरियां खत्म हो चुकी है। आम जनता को इस सरकार ने टैक्सों के तले दबा दिया है।आम जनता से उनके घरों में रहने के लिए प्रापर्टी टैक्स के रूप में पैसे वसूल रही है। उनके समय में उन्होंने प्रापर्टी टैक्स माफ कर दिया था। अमरेंद्र ने जेटली पर निशाना साधते कहा कि वह यहां आकर विकास की बातें कर रही है। लेकिन उनके द्वारा अगस्त 2006 में तैयार किया गया अमृतसर का प्लान पिछले सात सालों में चंडीगढ़ की अलमारियों में सड़ रहा है। इस प्लान में उन्होंने अमृतसर के लिए खास अगले 25 सालों में होने वाले विकास की बात की है। इस दौरान पंजाब प्रदेश कांग्रेस उपप्रधान ओपी सोनी, राजकंवल प्रीत लक्की, विकास सोनी, परमजीत चोपड़ा, संदीप धुन्ना, मनदीप सिंह मन्ना आदि विशेष रूप से उपस्थित थे।

मोदी सैकड़ों लोगों के कत्लेआम बारे जवाब दें : अमरेंद्र

अमृतसर लोकसभा सीट के उम्मीदवार कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी पत्नी और बेटे के विदेशों में खातों को लेकर बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं, जबकि उन्होंने अभी तक बड़े स्तर पर हुए कत्लेआम बारे अब तक जवाब नहीं दिया है। इतने बड़े स्तर पर हुए कत्लेआम के आरोपी में इस बारे बोलने की नैतिक हिम्मत नहीं है, लेकिन वह उलटा झूठे आरोप लगा रहा है। अमृतसर में पार्टी की हार होती देखकर आरोप लगाए जा रहे हैं। जिसमें पहले सुब्रह्मण्यम स्वामी फिर अरुण जेटली, निर्मला सीता रमन और अब मोदी ने क्रमवार बेबुनियाद आरोप के मुद्दे को उठाया है।