पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ब्रांच मैनेजर समेत 7 पर केस दर्ज

ब्रांच मैनेजर समेत 7 पर केस दर्ज

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चिटफंड कंपनी लाइव इंडिया ट्रेडिंग बनाकर लोगों के लाखों रुपए हड़पने के मामले में थाना कैनाल पुलिस ने कंपनी के ब्रांच मैनेजर समेत 7 लोगों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। 15 सितंबर को इस मामले में लाइव ट्रेडिंग कंपनी ब्रांड एंबेसडर और गायक गिप्पी ग्रेवाल को परवाना नोट भी करवाया था। मगर तब से इस मामले की जांच ठंडे बस्ते में चली गई थी। अब भुच्चो मंडी वासी अमनदीप सिंह,कंपनी ब्रांच मैनेजर है, उसके भाई बबलू,जगजीत सिंह,अशोक कुमार,चमकौर सिंह उर्फ निक्का,भूपिंदर गुप्ता श्रीकांत पर केस दर्ज किया गया है।

येथा मामला : लक्कीवासी अमरपुरा बस्ती ने पुलिस को बताया था कि 17 अक्टूबर 2013 को लाइव ट्रेडिंग इंडिया के ब्रांच मैनेजर अमनदीप सिंह,उसका भाई बबलू वासी भुच्चो मंडी,जगजीत सिंह,अशोक कुमार,चमकौर सिंह,भूपिंद्र गुप्ता श्रीकांत ने उन्हें बताया था कि 1 लाख से शुरू होने वाले बिजनेस में उसे 10 फीसदी ब्याज इएमआई हर महीने मिलेगी। 12 महीने ब्याज मिलेगा। 12 महीने के बाद 1 लाख रुपए उसे वापस कर दिए जाएंगे। कंपनी ने सिक्योरिटी के तौर पर साइन किए चेक भी दिए थे। 18 अक्टूबर 2013 को 1 लाख रुपए कंपनी में जमा करा दिए थे। उनके कजिन जसवंत सिंह वासी गुरु नानक पुरा मोहल्ला के भी 3 लाख रुपए कंपनी में लगा दिए थे। बहन के भी 1 लाख रुपए लगाए थे। जून 2014 तक ब्याज दिया जाता रहा। लेकिन उसके बाद ब्याज मिलना बंद हो गया था।लक्की ने बताया कि 6 सितंबर को थाना कैनाल कालोनी पुलिस कंपनी के ब्रांच मैनेजर अमनदीप सिंह की तलाश में भुच्चो मंडी गई थी। लेकिन पुलिस को अमनदीप नहीं मिला था। अमनदीप का भाई बबलू जो कंपनी का अकाउंट देखता था को पुलिस अपने साथ बठिंडा पूछताछ के लिए लेकर आई थी। लेकिन उसे उसी शाम एक सरपंच के कहने पर छोड़ दिया गया था। वहीं 7 सितंबर को थाना कैनाल कालोनी के समक्ष ब्रांच मैनेजर अमनदीप सिंह,कंपनी के बठिंडा ब्रांच मैनेजर अशोक कुमार,चमकौर सिंह बबलू पेश हुए थे। पुलिस ने इस दौरान अमनदीप को कंपनी का पूरा रिकार्ड देने की बात कही थी। जिस पर अमनदीप ने पुलिस को 2 करोड़ 98 लाख का हिसाब दिया था। मामले में जांच अधिकारी एएसआई परमिंदर सिंह ने बताया कि आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया है। जब उनसे गिप्पी के बारे मेंं पूछा तो उनका कहना था कि उन्हें इस बारे मेंं ज्यादा जानकारी नहीं है।

चिट फंड मामला