पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान दान से अनंत पुण्यों की होती है प्राप्ति

कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान-दान से अनंत पुण्यों की होती है प्राप्ति

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुपूर्णिमा के साथ ही कार्तिक माह सम्पन्न हो गया, श्रद्धालुओं ने सरोवर-नहर पर स्नान के बाद पूजा-पाठ, हवन एवं सत्यनारायण की कथा सुनी। सुबह 5 बजे से ही सरहिंद नहर पर श्रद्धालुओं का अंबार लगा, जहां नारियल गुट में पांच मेवे से भरे दीपक जलाकर चलते पानी में छोड़े गए। श्रद्धालुओं ने नहर के किनारे पर ही आसन लगाकर पूजा-पाठ एवं हवन यज्ञ के साथ कार्तिक माह का समापन किया, वहीं सत्यनारायण की कथा भी सुनी गई। दान-पुण्य के विशेष पर्व का ब्राह्मण भोज के साथ हुआ, घर में ब्राह्मण को खाना दान-दक्षिणा दी गई। वहीं गौशाला में गऊ दान, हरा चारा दान किया। वही तुलसी की विशेष दीपमाला की गई।

इसी कड़ी में पावर हाउस रोड के शिव मंदिर में शाम को सत्यनारायण कथा हुई जिसमें पंडित अविनाश तिवारी ने भगवान विष्णु की अराधना की महत्ता बताई। वहीं पंडित ब्रजेश दीक्षित ने बताया कि गुरु पूर्णिमा के कार्तिक स्नान बेहद फलदायी है, इस दिन ब्राह्मण को भोजन दान-पुण्य, गोदान और भगवान की कथा-पूजन किया जाता है। साल भर मंदिर में दीपक जला पाने वाले इस दिन 360 दीपक जलाकर शक्ति-भक्ति की मुराद मांगी जाती है ताकि विष्णु भगवान की पूजा-अर्चना से मन के अंधकार मिटाकर घर में सुख-शांति आती है।

कार्तिक माह की समाप्ति पर पीपल के पेड पर कच्चा सूत बांधते हुए श्रद्धालु।

वीरवार को कार्तिक पूर्णिमा पर सरहिंद नहर पर पूजा करती महिलाएं।