पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • शहर से हटाए जाएंगे ओपन डंप आज नए इलाकों में बंटेंगे बिन

शहर से हटाए जाएंगे ओपन डंप आज नए इलाकों में बंटेंगे बिन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस सुरक्षा के बीच मिल्क प्लांट चौक में की सफाई

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट

एससीबीसी कमीशन के उपचेयरमैन डा. वेरका सीपी, डीसी और निगम कमिश्नर को देंगे नोटिस

सॉलिडवेस्ट मैनेजमेंटप्रोजेक्ट के दूसरे दिन नेशनल हाइवे के डंप खाली किए गए। भारी सुरक्षा के चलते कोई विरोध नहीं हुआ। कंपनी को कूड़ा लिफ्टिंग का काम तेज करने के आर्डर हो गए हैं। शहर में सड़कों के किनारे के ओपन डंप खत्म किए जाएंगे। नए इलाकों में बिन बांटने का अगला शेड्यूल शुक्रवार को निगम तय करेगा। छुट्टी के बावजूद निगम कमिश्नर जीएस खैरा ने अफसरों के साथ मीटिंग की है। स्ट्राइक कर रही कर्मचारी यूनियन को लोकल बॉडीज मंत्री अनिल जोशी ने शुक्रवार को चंडीगढ़ में बुलाया है।

प्रोजेक्ट का काम लागू करने के दूसरे दिन महीनों से पड़ी मिल्क प्लांट चौक की गंदगी साफ की गई। कंपनी के आफिसर एसके शर्मा ने कहा कि शुक्रवार को भी कूड़ा लिफ्ट होगा। बिन बांटने का शेड्यूल अभी तय नहीं है। उधर, भाजपा के जिला प्रधान एडवोकेट सुभाष चंद्र सूद ने कहा कि प्रोजेक्ट सरकार जैसे मर्जी कर इस प्रोजेक्ट को लागू कराए।

प्रोजेक्ट शहर के लिए बहुत जरूरी

-जस्टिसएनके सूद, हरियाणाके लोकायुक्त रहे हैं

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट की शहर को जरूरत है। शहर गंदगी से अटा है क्योंकि सफाई कर्मचारी काम नहीं करते। सिस्टम ठीक है तो फिर शहर गंदा क्यों है? अभी कूड़ा उठेगा, बिजली बनाने का प्रोजेक्ट अभी नहीं लगा। वेस्ट से कुछ बने या बने, ये उठना तो जरूरी है न। ऐसा होने पर बीमारी फैलेगी।

देरी से ही सही, अच्छी शुरुआत

-आलोकसोंधी, एमडीपीकेएफ ग्रुप

देश के प्रमुख शहरों चंडीगढ़, बैंगलोर और दिल्ली में सॉलिड वेस्ट से खाद या दूसरी चीजें बनती हैं। इसी से शहर साफ होता है। जालंधर सिटी में गंदगी एक बड़ी समस्या है। जालंधर के लिए ये प्रोजेक्ट पहले ही शुरू हो जाना चाहिए था।

} अभी तक शहर के बाहरी घेरे में बनी नई कॉलोनियों में सफाई कर्मचारी उपलब्ध ही नहीं थे। प्राइवेट कर्मचारी पैसा लेकर काम करते थे। अब पूरा शहर संगठित सिस्टम में कवर होगा।

} जो गंदगी सड़क के ऊपर लोग फैंक देते हैं। उसे इकट्ठा करके मेन बिन में डाला जाएगा। इसके लिए कामन प्वाइंट चुनकर बिन रखे जाएंगे। ऐसे प्वाइंट्स की पहचान की जा रही है।

} बड़ी इमारतों के लिए अलग से बड़े बिन उपलब्ध रहेंगे। ताकि स