पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर नेटवर्क }कै

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अमरीक ने बताया, पहले इंग्लैंड मंे हुआ था ये गाना रिलीज

इसगाने के पीछे की एक पूरी कहानी है। अमरीक ने इसे 1990 में 15 साल की उम्र में लिखा था। इसका आइडिया उन्हें एक पुलिस वाले काे देखकर आया था, जो काला चश्मा पहनी हुई एक खूबसूरत लड़की को एकटक देख रहा था। गाना लिखने के बाद उन्होंने कई सिंगर्स को अप्रोच किया। काफी संघर्ष के बाद अमर अर्शी इसके लिए राजी हुए और उन्होंने इस पर इंग्लैंड में परफॉर्म किया। एक कंपनी ने इसे इंग्लैंड में रिलीज भी किया। इस तरह ये काफी हिट हो गया। बाद में इसे चंडीगढ़ की एक म्यू
भास्कर नेटवर्क }कैटरीना कैफअौर सिद्धार्थ मल्होत्रा की फिल्म ‘बार बार देखो’ का गाना काला चश्मा विवादों मंे गया है। पंजाब के कपूरथला में पदस्थ कांस्टेबल अमरीक सिंह का कहना है कि वे इस गाने के असली लेखक हंै। उनसे ये गाना चार महीने पहले एक कंपनी ने यह कहकर लिया कि इसे एक सीमेंट फर्म के उद्घाटन समारोह मंे चलाना है। उनके साथ एग्रीमेंट साइन किया और उन्हें सिर्फ 11 हजार रुपए दिए। लेकिन कभी ये नहीं बताया गया कि इसे फिल्म के लिए खरीदा जा रहा है। अमरीक का कहना है कि दो महीने पहले उन्हें एक दोस्त का फोन आया कि उनका गाना ‘काला चश्मा’ टीवी पर चल रहा है। वे यह सुनकर अचंभित रह गए। अब इस गाने की सफलता से अमरीक खुश भी हैं और झूठ बोलकर गाना लेने से दुखी भी। हालांकि, उन्हें गाने में क्रेडिट दिया गया है। फिल्म से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यह गाना फिल्म के आखिरी में है, इसलिए फिल्म का हिस्सा नहीं है।

lyricist constable :

AmrikSingh

controversy

खुद को गाने का असली लेखक बताने वाले पंजाब के अमरीक सिंह का आरोप, सिर्फ 11 हजार में झूठ बोलकर खरीदा

‘सीमेंट फर्म के कार्यक्रम में बजाना है, बाेलकर खरीदा काला चश्मा गाना’

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

    और पढ़ें