• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • निरी सियासत |मेयर ज्योति ने ओबरॉय से वापस ले लिया था डॉग पाउंड प्रोजेक्ट

निरी सियासत |मेयर ज्योति ने ओबरॉय से वापस ले लिया था डॉग पाउंड प्रोजेक्ट

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अपनी पार्टी और वार्ड में था विरोध

अकाली डिप्टी मेयर ओबराॅय अाप में, करप्शन-कालिया बताई वजह

डिप्टीमेयर अरविंदर कौर ओबराॅय और उनके पति कुलदीप सिंह ओबराॅय अकाली दल छोड़कर अाम आदमी पार्टी में शामिल हो गए हैं। ओबराॅय ने अकाली दल की प्राथमिक सदस्यता और डिप्टी मेयर पद से इस्तीफा दे दिया है। आम आदमी पार्टी के जालंधर सेंट्रल हलका से उम्मीदवार डॉ. संजीव शर्मा को ओबराॅय के आप में शामिल होने से फायदा मिल सकता है।

ओबराॅय ने अकाली दल छोड़ने की मुख्य वजह करप्शन और सेंट्रल हलका से विधायक मनोरंजन कालिया को बताया। कुलदीप सिंह ओबराॅय ने कहा कि अकाली दल की 20 साल तक सेवा की है लेकिन कुछ ऐसे कारण हैं जिनके कारण उन्हें पार्टी छोड़नी पड़ रही है। इसके अलावा करप्शन एक बड़ा मुद्दा है। नगर निगम में रोड स्वीपिंग घोटाला, पैचवर्क घोटाला भी शामिल है। इन घोटालों को कई बार उठाया गया लेकिन राजनीतिक दबाव में कार्रवाई नहीं हुई। ओबरॉय ने बताया कि सेंट्रल हलके के विधायक मनोरंजन कालिया ने उनके साथ हमेशा ही राजनीति की। कालिया के लिए हर चुनाव में दिल से मेहनत की लेकिन कालिया ने पिछले पार्षद चुनाव में उनको हराने के लिए 6 आजाद उम्मीदवार खड़े किए लेकिन सफल नहीं हुए। प्रेस कांफ्रेंस मे आप नेताओं राजीव चौधरी, जत्थेदार जगजीत सिंह गाबा, आत्मप्रकाश सिंह बबलू, एडवोकेट मल्ही मौजूद रहे।

डिप्टी मेयर अरविंदर कौर ओबरॉय ने रोड स्वीपिंग प्रोजेक्ट पर मेयर के खिलाफ मोर्चा खोला था। मेयर ने जवाब में ओबराॅय से स्ट्रीट डाॅग पाउंड प्रोजेक्ट वापस ले लिया था। ओबरॉय की पार्टी में भी पोजिशन खराब थी। वार्ड में भी विरोध बढ़ चुका है। अकाली-भाजपा नेताओं से नाराजगी के बाद उनके लिए आप के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था।

डिप्टी मेयर अरविंदर कौर ओबरॉय ने 1 महीने पहले जलंधर सेंट्रल हलके से आम आदमी पार्टी की टिकट मांगकर संकेत दे दिया था कि वह पार्टी छोड़ने का मन बना चुकी हैं। पार्टी ने टिकट नहीं दी लेकिन इस बीच आप नेताओं से नजदीकियां बनी रहीं। ओबरॉय का पिछले कुछ साल से विधायक से मनमुटाव चल रहा था। ओबराॅय ने कालिया के खिलाफ आजाद रूप से चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। कालिया ने पांच दिन पहले ओबरॉय को मना लिया था लेकिन ओबरॉय ने कालिया के खिलाफ आप में जाने की घोषणा कर दी।

बोले, सियासी कारणों से नहीं हुई घोटालों की जांच

रोड स्वीपिंग प्रोजेक्ट को लेकर मेयर सुनील ज्योति के विरोध पर जब डिप्टी मेयर ओबरॉय के अवैध निर्माण का मामला उठा था तो डिप्टी मेयर ने मेयर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। डिप्टी मेयर ने हाउस की मीटिंग में मेयर को चूड़ियां थमाई थीं और करप्शन करने वालों पर कार्रवाई के लिए कदम नहीं उठाने पर निंदा की थी। हालांकि इसके कुछ दिन बाद मेयर सुनील ज्योति और ओबरॉय में संबंध ठीक हो गए थे। एफएंडसीसी कमेटी में कुछ प्रोजेक्टों को लेकर दोनों में एक राय थी। एक हफ्ते पहले कालिया के साथ फोटो फेसबुक पर अपलोड होने के बाद ओबरॉय को आलोचना झेलनी पड़ रही थी।

हाउस की मीटिंग में मेयर को पकड़ाई थीं चूड़ियां

खबरें और भी हैं...