--Advertisement--

यहां पढ़े हैं चुनाव आयोग के कमिश्नर बने सुनील अरोड़ा,सरकारी कॉलेज से MA की

कमिश्नर बने राजस्थान कैडर के रिटायर्ड आईएएस अफसर सुनील अरोड़ा का होशियारपुर शहर से गहरा संबंध है।

Dainik Bhaskar

Sep 07, 2017, 04:47 AM IST
Sunil Arora becomes EC commissioner
होशियारपुर. 1 सितंबर को इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के कमिश्नर बने राजस्थान कैडर के रिटायर्ड आईएएस अफसर सुनील अरोड़ा का होशियारपुर शहर से गहरा संबंध है। उनकी एजुकेशन होशियारपुर से ही है। उनके करीबी दोस्त प्रिंसिपल देसवीर शर्मा ने भास्कर से बातचीत में बताया कि सुनील अरोड़ा का जन्म 1956 में हुआ। इनके पिता नसीब एमसी अरोड़ा जालंधर में रेलवे में एकाउंट्स ऑफिसर और माता पुष्प लता डीएवी कॉलेज होशियारपुर में गर्ल सेक्शन की इंचार्ज थीं। अरोड़ा 2-3 साल की उम्र में ही होशियारपुर आ गए थे। विद्या मंदिर स्कूल शिमला पहाड़ी में 10वीं तक पढ़े। 1976 में सरकारी कॉलेज होशियारपुर से एमए इंग्लिश की। पंजाब यूनिवर्सिटी के एसी बाली डिबेट मुकाबले में बेस्ट डिबेट रहे। यहां से एमए के बाद 1976 में जालंधर के डीएवी कॉलेज में अंग्रेजी के प्रोफेसर रहे।

बीजेपी सरकार से नजदीकियों के चलते इन्हें 1 सितंबर को इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया का कमिश्नर लगाया गया। बेशक बीजेपी के साथ नजदीकियां रही हंै, लेकिन इन्हें एक स्पष्टवादी अधिकारी के तौर पर जाना जाता है। इनकी नियुक्ति हुई तो अंग्रेजी अखबार द हिंदू ने इन्हें नो नॉनसेंस मैन के तौर पर लिखा था।
1979 में बन गए आईएएस अधिकारी, इंडियन एयरलाइन के चेयरमैन कम एमडी भी रहे
सुनील अरोड़ा 1978 में आईपीएस बन गए थे। पर पोस्टों की कमी से आईपीएस के तौर पर ज्वाइन नहीं कर सके। 1979 में फिर यूपीएस पेपर देकर आईएएस अधिकारी बने। इनके 2 भाई भी हंै, जिनमें संजीव अरोड़ा दोहा कतर में भारतीय अंबेस्डर और राजीव अरोड़ा हरियाना में आईएएस अधिकारी हैं। इनके चाचा रमेश अरोड़ा परिवार समेत माउंट व्यू कॉलोनी में रह रहे हैं। राजस्थान कैडर मिला था: आईएएस बनने के बाद इन्हें राजस्थान कैडर मिला। वह धोहलपुर के एसडीएम व अलवर के डीसी रहे। 2002 से 2006 तक इंडियन एयरलाइन के चेयरमैन कम एमडी रहे और उसे घाटे से मुनाफे में लाया। अरोड़ा को राजस्थान के सीएम रहे भैरो सिंह शेखावत में छोटी उम्र में ही प्रिंसिपल सचिव लगा दिया था। 2015 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया के इन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्टरी का सचिव बने। 30 अप्रैल 2016 को रिटायरमेंट के बाद दिसंबर 2016 में डॉयरेक्टर जनरल इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ कारपोरेट अफेयर्स बने।
दोस्त देसवीर बोले-हर जरूतमंद के काम आने वाले शख्स हैं अरोड़ा
यादों के ताजा करते हुए दोस्त प्रिंसिपल देसवीर शर्मा ने कह कि सुनील अरोड़ा हमेशा जरूरतमंदों के बेहद काम करते हैं। जहां तक कि सही काम के लिए वह कड़ा स्टैंड भी ले लेते हंै। वह अकसर ही होशियारपुर आते रहते हैं।
छोटे से घर में रह यहां तक पहुंचे अरोड़ा

दोस्त देसवीर ने बताया कि सुनील अरोड़ा का परिवार होशियारपुर शहर के प्रेमगढ़ मोहल्ले में छोटे से घर में रहता था। इनके माता-पिता ने उसी छोटे से घर में रहकर अपने बच्चों को यहां तक पहुंचा दिया। डीएवी गर्ल सेक्शन आज भी प्रो. पुष्प लता को याद कर रहा है।
X
Sunil Arora becomes EC commissioner
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..