शौक-ए-शराबः 260 से बढ़कर 300 पार हो जाएगी ठेकों की संख्या

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर. शहर में इस समय शराब के 260 ठेके हैं। ठेकों की संख्या तीन सौ के पार होने जा रही है। ज्यादा राजस्व के लिए सरकार ठेकों की संख्या बढ़ाएगी। बावजूद इसके कि मोहल्ले-मोहल्ले खुल रहे ठेकों का शहर के लोग लगातार विरोध कर रहे हैं। पिछले साल भी शहर में कई जगह लोग ठेकों के विरोध में सड़कों पर उतरे थे।
नई एक्साइज पॉलिसी में अब तक इस समस्या के हल के लिए प्रावधान नहीं किया जा रहा। अधिकारी रेवेन्यू में बीस फीसदी तक बढ़ोतरी चाहते हैं। ठेकेदारों ने विभाग को दिए सुझाव में कहा है कि रेवेन्यू बढ़ाने के लिए शराब की दुकानें भी बढ़ानी होंगी। पिछले साल खुले शराब ठेके से श्री गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू वेलफेयर सोसायटी के सदस्य अब तक परेशान हैं। प्रधान राजन गुप्ता बताते हैं कि एक्साइज विभाग ने रिहायशी क्षेत्र के बिल्कुल केंद्र में शराब ठेका खुलवा दिया। ठेकेदार ने साथ ही अहाता खोल दिया।
इसके साथ ही सड़क पर शराब पीने का सिलसिला शुरू हुआ। शराब पीकर लोग बोतलें सड़क पर फेंक जाते हैं। बकौल राजन गुप्ता इस साल ये समस्या दूर न हुई तो सभी सदस्य एक्साइज दफ्तर को घेरेंगे। कुछ यही कहानी तिलक नगर में रहने वाली टीचर शालिनी कौशल कहती हैं। बकौल शालिनी शराब ठेके के आगे से बच्चे गुजरते हैं। वह बड़ों को यहां पर शराब पीते देखते हैं। सोचिए, बच्चों के मन पर क्या असर पड़ेगा? हर बार महिलाएं शराब ठेका खोलने का विरोध करती हैं, लेकिन एक्साइज विभाग पर कोई असर नहीं होता।