पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • PAP Chowk Roundabout Will Replace The Red Light

पीएपी चौक पर रेड लाइट की जगह बनेगा गोल चक्कर

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के एंट्री प्वाइंट पीएपी चौक की सूरत बदलने वाली है। अब यहां रेड लाइट हटाकर गोल चक्कर बनाया जाएगा। सिक्स लेन प्रोजेक्ट के तहत पीएपी फ्लाईओवर बन जाने के बाद इसके नीचे अंडरपास भी बनेगा,
ताकि वाहन चालक रास्ता बदल सकें। काम करना है सोमा आइसोलेक्स और नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया को। हालांकि ये योजना अभी दूर की कौड़ी है।
बाधाएं हटने और हाईकोर्ट में चल रहे केस का फैसला आने के बाद काम शुरू होगा। तब तक लोग जाम में फंसते रहेंगे। यही नहीं, रुकावटें हटने के बाद काम युद्ध स्तर पर काम शुरू हो, तब भी कम से कम छह माह का समय लगेगा। यह आकलन किया गया है कि फ्लाईओवर बन जाने के बाद करीब 60 फीसदी ट्रैफिक ऊपर से गुजरेगा,
जबकि बाकी का नीचे से।बीएसएफ चौक से अमृतसर व उधर जाने को पीएपी चौक से हाईवे पर चढऩे के लिए एक सीधी लेन करवा दी जाएगी, जोकि सर्विस लेन से मर्ज होकर हाईवे पर जाकर जुड़ जाएगी। जबकि लुधियाना जाने वालों को राउंड अबाउट की तरफ सीधी सड़क देने के साथ हाईवे की तरफ जाने के लिए अलग से कैरिज वे दिया गया है।
वह भी हाईवे से जाकर जुड़ेगा।फ्लाईओवर के साथ दाहिनी तरफ से पुल के साथ एक सड़क नीचे उतरेगी, जिस पर पठानकोट और अमृतसर से शहर के अंदर दाखिल होने वाली बसें और अन्य ट्रैफिक चढ़ेगा। उनको पुल के नीचे से राउंड अबाउट से होकर घूम कर आना होगा।
फ्लाईओवर को पीएपी के रेलवे ओबर ब्रिज के साथ जोड़ कर सीधा बीबीएमबी के सामने उतारा जाएगा। लुधियाना से अमृतसर व पठानकोट सीधा जाने आने वाला सारा ट्रैफिक इसी पुल से होकर गुजरेगा। बाकियों को शहर के अंदर आने के लिए सर्विस लेन से नीचे उतरना होगा।
पीएपी पर रुका है गर्डर लांचिंग का काम
पीएपी फ्लाईओवर के लिए पिलर बनकर तैयार हो चुके हैं। करीब छह माह पहले गार्डर और साइड सीमेंट स्लाइडें भी साइट पर लाई जा चुकी हैं। पर गर्डर लांचिंग का काम हाइटेंशन तारों के खंभे न हटने के कारण रुका है।
शुक्रवार को निरीक्षण के दौरान मेयर सुनील ज्योति ने सोमा व एनएचएआई के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि साइट क्लियर होने से पहले गर्डर लांचिंग का काम शुरू किया जाए, ताकि जगह चौड़ी हो सके। सोमा अधिकारियों ने इस पर हामी भी भरी है। करीब 32 गर्डर दोराहा प्लांट से तैयार करवाए गए हैं। इसके लिए अंबाला से बैरिंग बनाने का काम भी हो चुका है।