पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • अगले दिन एक्सईएन बोले, जेई ड्यूटी पर नहीं था, सोखी पर लगी सरकारी काम में बाधा की धारा हटी

अगले दिन एक्सईएन बोले, जेई ड्यूटी पर नहीं था, सोखी पर लगी सरकारी काम में बाधा की धारा हटी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
निगम कमिश्नर ने मुलाजिमों का हवाला दे सोखी पर कार्रवाई के लिए सीपी को लिखा था

यशपाल शर्मा/राजदीप सैनी| लुधियाना

शिअदके जिला योजना बोर्ड के चेयरमैन कौंसलर जगबीर सिंह सोखी द्वारा नगर निगम के जेई गगनदीप सिंह से मारपीट के मामले में गठित की गई एसआईटी ने बेअदबी करने सरकारी ड्यूटी में बांधा डालने की धाराएं यह कहकर हटा दी थी कि घटना के दिन गगनदीप ड्यूटी पर नहीं था और बेअदबी की कोई बात सामने नहीं आई है। निगम कमिश्नर एपी बराड़ की तरफ से मामले को लेकर पुलिस कमिश्नर जेएस औलख को जगबीर सोखी के खिलाफ कार्रवाई के लिए एप्लीकेशन भेजी गई थी। इसमें निगम कमिश्नर ने कहा कि उन्हें कॉरपोरेशन मुलाजिमों की तरफ से बताया गया कि वारदात के दिन गगनदीप ड्यूटी पर था और ऑफिस के काम से ही जगबीर सोखी के ऑफिस गया था। जहां उसे गलत शब्दावली बोली गई और फिर मारपीट की गई। आगे लिखा कि निगम मुलाजिमों की तरफ से दिए गए मेमोरंडम को एप्लीकेशन के साथ भेजकर उनकी तरफ से कार्रवाई करने की मांग की गई है। इसके बावजूद जगबीर सोखी का बचाव करने के लिए निगम मुलाजिमों ने अपने बयान बदल दिए और पुलिस ने उसी के आधार पर गैर-जमानती धाराएं हटा दीं। इस मामले में एक्सईएन बलविंदर सिंह का कहना था कि गगनदीप उस समय ड्यूटी पर नहीं था और ही उन्हें पता था कि गगनदीप फाइल लेकर सोखी के ऑफिस गया है। लेकिन कॉरपोरेशन यूनियन के प्रेसिडेंट जसदेव सिंह सेखों का कहना है कि जब निगम कमिश्नर को गगनदीप की तरफ से दी गई कंप्लेंट सौंपी गई तो उस समय एक्सईएन बलविंदर सिंह गगनदीप की ब्रांच के अन्य हेड की तरफ से कमिश्नर को बयान दिया था कि घटना के समय जेई ड्यूटी पर था और ऑफिस के काम से ही गया था। गगनदीप के पिता मेजर सिंह का भी यहीं कहना था कि घटना के बाद एक्सईएन बलविंदर सिंह ने खुद कहा था कि गगनदीप ड्यूटी पर थे।

^मुझे जानकारी नहीं कि जेई को किसने वहां भेजा था। इस संबंध में आप एक्सईएन से बात कर लें, उन्हें मामले के बारे में जानकारी है। -एपी बराड़, निगम कमिश्नर।

^हमारे पास निगम कमिश्नर की ओर से कोई एप्लीकेशन नहीं आई थी। ही इस तरह की कोई एप्लीकेशन हमें किसी व्यक्ति ने दी। -र| सिंह बराड़, एडीसीपी इंडस्ट्री

निगम एम्पलाई यूनियन के प्रेसिडेंट जसदेव सिंह सेखों से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि निगम कमिश्नर को एक्सईएन बलविंदर सिंह और जेई गगनदीप सिंह की ब्रांच के बाकी हेड ने मारपीट के संबंध में जानकारी दी थी। वारदात के दिन घटना की जानकारी मिली तो यूनियन के मेंबर अस्पताल गए थे। लेकिन जेई से मुलाकात नहीं हो पाई। दूसरे दिन जेई का परिवार उसकी ब्रांच के हेड मेमोरंडम लेकर निगम कमिश्नर से मिलने आए थे। उन्होंने हमें साथ चलने को कहा था। सेखों ने बताया कि महकमे का मुलाजिम होने के चलते यूनियन मेंबर उनके साथ गए थे। लेकिन हमें मामले की पूरी जानकारी नहीं थी। जिसके चलते गगनदीप की ब्रांच के एक्सईएन, एसडीओ अन्य हेड मेंबरों ने कमिश्नर को जानकारी दी थी कि घटना के दिन जेई ड्यूटी पर था और उसे ऑफिस के काम से भेजा था।

खबरें और भी हैं...