• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • नैनो टेक्नोलॉजी और ऑर्गेनिक खादों के प्रयोग से होगा खेती का विकास

नैनो टेक्नोलॉजी और ऑर्गेनिक खादों के प्रयोग से होगा खेती का विकास

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीएयू के वीसी डॉ. बलदेव सिंह ढिल्लों और सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वीसी डॉ. एसएस जौहल हुए शामिल

एजुकेशनरिपोर्टर | लुधियाना

सिविललाइंस स्थित गुजरांवाला गुरु नानक खालसा कॉलेज के इकोनॉमिक्स डिपार्टमेंट ने ‘एग्रीकल्चरल ट्रेंड्स एंड टेक्नोलॉजीस’ विषय पर 2 दिवसीय नेशनल सेमिनार कराया। सेमिनार को इंडिया काउंसिल ऑफ सोशल साइंस एंड रिसर्च(आईसीएसएसआर) नई दिल्ली ने स्पॉन्सर किया। कार्यक्रम में पीएयू के वाइस चांसलर डॉ. बलदेव सिंह ढिल्लों ने सम्माननीय मेहमान के तौर पर शिरकत की। कार्यक्रम की शुरुआत शबद गायन से हुई। प्रिंसिपल डॉ. अरविंदर सिंह ने सभी मेहमानों का स्वागत किया।

सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. एसएस जौहल ने उद्घाटन समारोह में शिरकत की। उन्होंने रिसर्च, प्रॉडक्शन और मार्केटिंग पर बात करने के साथ ही नैनो टेक्नोलॉजी और ऑर्गेनिक फार्मिंग पर ज्यादा ध्यान देने पर जोर दिया। डॉ. बीएस ढिल्लों ने राष्ट्रीय और राज्यों में चल रहे खेती की विभिन्न प्रवृत्तियों पर बात की। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्षेत्र, उत्पादन के आधार पर भारत की स्थिति पर बात की। एग्रीकल्चरल साइंटिस्ट और रिक्रूटमेंट बोर्ड इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च के चेयरमैन डॉ. गुरचरन सिंह ने खेती को मजबूत बनाने के लिए कहा। उन्होंने कुदरती स्रोतों में रही कमी पर बात की। ‘खेत की खाद खेत में’ विषय पर भी जानकारी दी। एग्रोनॉमी के प्रो. डॉ. आरके पन्नू ने हॉर्टीकल्चर विषय पर सभी मौजूद लोगों को जानकारी दी। डॉ. जीएस कलकट ने कहा कि खेती हमारे देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में अहम किरदार निभाती है। प्रेसिडेंट डॉ. पृथीपाल सिंह कपूर ने सभी मेहमानों का धन्यवाद किया।

कार्यक्रम में शामिल होने पर मेहमानों को सम्मान चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

खबरें और भी हैं...