हेल्पेज इंडिया ने करवाई वर्कशॉप

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रोस्टेट की समस्याओं से डरें नहीं, इलाज संभव

लाॅयंस क्लब ने कराया बढ़ती उम्र में प्रोस्टेट समस्याएं विषय पर सेमिनार

सिटीरिपोर्टर | लुधियाना

लाॅयंसक्लब लुधियाना ने बढ़ती उम्र में प्रोस्टेट समस्याएं विषय पर सेमिनार कराया। क्लब सेक्रेटरी डॉक्टर राजेश थापर ने बताया कि प्रोस्टेट ग्लैंड आकार में अखरोट के साइज का होता है यह पुरुष प्रजनन प्रणाली का एक अभिन्न अंग है। इसे पौरूष ग्रंथि के नाम से भी जाना जाता है। यह ग्रंथि पुरुष की आयु के साथ बड़ी होती जाती है और बड़ी उम्र में पेशाब की नियमित धारा में रुकावट और दिक्कत हो सकती है।

डॉक्टर थापर ने बताया पेशाब का रुक-रुक कर आना या बूंद-बूंद में आना और पेशाब की हाजत बनी रहना, प्रोस्टेट ग्रंथि के बढ़े होने के लक्षण हैं, जिन्हें कदापि अनदेखा नहीं करना चाहिए। बतौर अतिथि वक्ता डॉक्टर जसवीर सिंह छाबड़ा ने कहा कि प्रोस्टेट की सभी समस्याएं कैंसर नहीं होतीं। करीब 80 फीसदी प्रोस्टेट समस्याएं दवाओं से ठीक हो सकती हैं और केवल 20 फीसदी के लिए ऑपरेशन का सहारा लेना पड़ता है। आधुनिक विज्ञान ने इतनी तरक्की कर ली है कि अब प्रोस्टेट की समस्याएं ठीक की जा सकती हैं। इनका डाॅक्टरी सलाह के अनुसार उपचार करवाना यकीनी बनाएं।

कार्यक्रम के दौरान मेहमानों को सम्मानित करते आयोजक। फोटो: भास्कर

लुधियाना| हेल्पेज इंडिया संस्था की ओर से सीनियर सिटीजंस वेल्फेयर एसोसिएशन के सहयोग से सीनयर सिटीजंस के लिए प्रोस्टेट कैंसर पर आधारित राष्ट्रीय स्तर की अवेयरनेस वर्कश़ॉप का आयोजन किया गया। बीआरएस नगर के लक्ष्मी नारायण मंदिर में हुई इस वर्कशॉप के दौरान फोर्टिस हॉस्पिटल के कैंसर स्पेशलिस्ट डॉ. जगदीप सिंह सेखों ने उन्हें प्रोस्टेट कैंसर होने के कारण और बचाव की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इसके मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस मौके पर हेल्पेज के प्रोग्राम मैनेजर कमल शर्मा, प्रधान एसपी करकरा, अशोक पटियाल और एसोसिएशन के प्रधान बलबीर सिंह ने प्रोस्टेट कैंसर संबंधी कई सवाल किए और डॉ. सेखों ने उनके जवाब दिए।

खबरें और भी हैं...