पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • मोमबत्ती, दीप जलाकर लिया वाहेगुरु का आशीर्वाद

मोमबत्ती, दीप जलाकर लिया वाहेगुरु का आशीर्वाद

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर रंग बिरंगी रोशनी से सजे गुरुद्वारों में रखे गए अखंड पाठ के भोग डाले गए। रागी जत्थों ने शबद कीर्तन कर संगत को निहाल किया। गुरु की अरदास कर संगत में अटूट लंगर बरताए गए। संगत ने देसी घी के दीप और मोमबत्तियां जला कर वाहेगुरु का आशीर्वाद लिया। श्रद्धा का आलम ये कि नन्हें बच्चे भी लंगर में सेवा करते नजर आए।

फील्डगंज गुरुद्वारा दुख निवारण साहिब में प्रकाशउत्सव श्रद्धा से मनाया गया। इस दौरान रणदीप सिंह, अमरजीत सिंह, हरदीप सिंह, मनविंदर सिंह, जगजीत सिंह, सतनाम सिंह, जगबीर सिंह, इंदरजीत सिंह, रजिंदरपाल सिंह, भाई हरप्रीत सिंह, ज्ञानी मनदीप सिंह, ज्ञानी तेजपाल सिंह, उपस्थित रहे।

गुरुद्वारानानकसर ठाठ: फिरोजपुररोड पर गुरुद्वारा नानकसर ठाठ में मुख्य सेवादार संत बाबा जागीर सिंह की अध्यक्षता मे अखंड पाठ के भोग डाले गए। गुरुद्वाराश्री दशमेश पिता चंदर नगर: मेंप्रधान सुलखन सिंह की अध्यक्षता में भाई अमृत पाल और भाई गुरदीप सिंह खालसा वालों ने शबद कीर्तन किया। इसके बाद संगत में लंगर बरताया गया।

गुरुद्वाराश्री गुरु सिंह सभा दीप नगर मेंप्रधान शिवतार सिंह बाजवा की अध्यक्षता में रखे गए अखंड पाठ के भोग डाले गए। इस अवसर पर, भाई भूपिंदर सिंह, ज्ञानी गुरदेव सिंह, ज्ञानी सतविंदर सिंह ने शबद कीर्तन कर संगत को निहाल किया। गुरुद्वाराश्री गुरु सिंह सभा सराभा नगर मेंप्रकाश पर्व पर अखंड पाठ के भोग डाले गए। हजूरी रागी भाई महिंदर सिंह, भाई गुरप्रीत सिंह, भाई रछपाल सिंह, भाई कुलविंदर सिंह ने शबद कीर्तन किया। इसके बाद गुरु का लंगर बरताया गया।

गुरुद्वारासिंह सभा माई नंद कौर घुमार मंडी मेंप्रधान हरनेक सिंह बेला की अध्यक्षता में रखे गए अखंड पाठ के भोग डाले गए। भाई सुखदेव सिंह रसीला ने आसां दी वार का कीर्तन किया। गुरु की अरदास कर संगत में लंगर बरताया गया। गुरुद्वाराश्री अकाल मंडल साहिब गुरु हरगोबिंद नगर मेंमुख्य सेवादार संत सतनाम सिंह की अध्यक्षता में सुबह दस बजे से दोपहर 1 बजे तक शबद कीर्तन किया गया। उपरांत गुरु की अरदास कर संगत में लंगर बरताया गया। गुरुद्वारागुरु नानक सत्संग सभा उपकार नगर मेंप्रधान अमरीक सिंह की अध्यक्षता में रागी जत्थों ने शबद कीर्तन कर संगत को निहाल किया। इस अवसर पर रखे गए अखंड पाठ के भोग डाले गए। गुरु का अटूट लंगर संगत में बरताया गया। शाम