पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • रुलदा के कत्ल का आरोपी आतंकी मलेशिया से पकड़ा

रुलदा के कत्ल का आरोपी आतंकी मलेशिया से पकड़ा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | पटियाला, चंडीगढ़

पंजाबपुलिस ने आरएसएस के राष्ट्रीय सिख संगत के मुखी रुलदा सिंह का कत्ल करने के आरोपी खालिस्तान टाइगर फोर्स के आतंकवादी रमनदीप उर्फ गोल्डी को गिरफ्तार कर लिया है। उसे मलेशिया से काबू करके बुधवार तड़के 1.30 बजे चेन्नई हवाई अड्डे पर लाया गया।

काउंटर इंटैलीजैंस के आईजी गौरव यादव ने बताया, गोल्डी को काबू करने के लिए राजपुरा के डीएसपी राजिंदर सोहल, तजिंदर जीत और इंस्पैक्टर मंदीप सिंह तीन हफ्ते तक थाइलैंड में रहे परंतु गोल्डी इस दौरान मलेशिया भागने में सफल रहा था। फिर उसे वहां से पकड़ा गया।

गोल्डी भिंडरावाला टाइगर फोर्स के मुखी रतनदीप सिंह, परमजीत सिंह पंजवड़ और वधावा सिंह का पूर्व साथी रहा है। गौरव यादव ने बताया, गोल्डी ने लुधियाना के कस्बा सुधार स्थित कॉलेज से बीएड की थी जहां वह बब्बर खालसा इंटरनेशनल के आतंकवादी फतेहगढ़ साहिब के दर्शन सिंह के संपर्क में आया जिसने आगे उसकी पहचान इंग्लैंड के आंतकवादी परमजीत सिंह उर्फ पम्मा से करवाई। उन्होंने बताया कि आरएसएस के राष्ट्रीय सिख संगत के मुखी रुलदा सिंह को कत्ल करने की आतंकी साजिश इंग्लैंड में परमजीत सिंह उर्फ पम्मा ने रची थी जिसको आगे भारत में गोल्डी ने अमली जामा पहनाया। रुलदा सिंह को 26 जुलाई, 2009 को उसके घर के पीछे दरवाजे पर उस समय गोली मारी गई जब अपनी गाड़ी खड़ी कर रहा था और बाद में 15 अगस्त, 2009 को पीजीआई चंडीगढ़ में दम तोड़ गया था। रुलदा सिंह पर हमला करने के पश्चात वह थाईलैंड चला गया। पम्मा गोल्डी का गुरु और पाकिस्तान आधारित खालिस्तान टाईगर फोर्स के मुखी जगतार सिंह तारा से संपर्क में बना रहा।