पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Congress President Gogi Didn't Know Party's Constitution

'सॉरी, ये पावर मेरे पास नहीं है, ब्लॉक प्रधान अभी पद पर हैं'

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना. जिला कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त प्रधान गुरप्रीत गोगी को पार्टी का संविधान ही नहीं पता है। वीरवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गोगी ने जिले की एग्जीक्यूटिव कमेटी भंग कर सभी ओहदेदारों की शक्तियां खत्म करने की बात कही। उन्होंने दावा किया कि मौजूदा समय में जिला प्रधान के अलावा चार ब्लॉक प्रधान ही एग्जीक्यूटिव में हैं। इसके अलावा किसी भी पद पर कोई नहीं है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म होते ही गोगी को फोन आया। इसके बाद गोगी अपने दावे से पलट गए। गोगी ने कहा कि 12 ब्लॉक प्रधान अपने पद पर काम कर रहे हैं। इन्हें हटाने और नियुक्त करने का काम पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी करती है। सॉरी, ये उन्हें मालूम नहीं था।

जिला कांग्रेस के प्रधान पद से हटाए गए पवन दीवान के समर्थन में बुधवार को 40 कांग्रेसी ओहदेदारों की ओर से दिए गए इस्तीफे पर अपना पक्ष रखने के लिए गोगी ने घुमारमंडी स्थित अपने घर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई। गोगी ने कहा कि बाजवा ने जिला कांग्रेस कमेटी (शहरी) को भंग कर उन्हें जिला प्रधान नियुक्त किया है। ऐसे में समूची कार्यकारिणी भंग है। जो लोग खुद का जिला कांग्रेस कार्यकारिणी का ओहदेदार बताकर अपने पद से इस्तीफा देने का दावा कर रहे हैं, असल में वे लोग कार्यकारिणी में है ही नहीं। गोगी ने आरोप लगाया कि ये सब पूर्व जिला प्रधान पवन दीवान के इशारे पर हो रहा है। शहरी कमेटी में प्रधान के अलावा कोई ओहदेदार नहीं है। हालांकि साथ बैठे यादविंदर सिंह ने कहा कि ब्लॉक प्रधान भी हैं। इसके बाद गोगी ने अपनी बात को संशोधित करते हुए कहा कि प्रधान के अलावा चार नए ब्लॉक प्रधान भी एग्जीक्यूटिव में है। इसके अलावा कोई भी नहीं।
पीपीसीसी ही हटा सकती है
करीब आधे घंटे बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म हुई। गोगी को तभी फोन आ गया। इसके तुरंत बाद गोगी ने पत्रकारों से कहा कि ब्लॉक प्रधान सभी अपने पद पर हैं। दरअसल ब्लॉक प्रधान को जिला प्रधान नहीं हटा सकता है। इसके लिए पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीपीसीसी) ही कोई फैसला ले सकता है। सॉरी, ये बातें उन्हें मालूम नहीं थी। फोन आने के बाद सब क्लियर हो गया है।
'दीवान बताएं चार साल में क्या किया'
गुरप्रीत गोगी पहली बार दीवान के खिलाफ खुलकर बोले। गोगी ने कहा कि दीवान सार्वजनिक तौर पर बताएं कि उन्होंने अपने चार साल के कार्यकाल में पार्टी को बिखरता देखने के अलावा कौन-सा काम किया है। उन्होंने कहा कि गुमराह हुए निष्ठावान कार्यकर्ताओं के लिए पार्टी के दरवाजे हमेशा खुले रहेंगे। उन्हें समझाकर घर वापस लाने का हर प्रयास करेंगे। टकसाली और निष्ठावान कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर मान सम्मान दिया जाएगा।
सरकार के खिलाफ 14 से हल्ला बोल
सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आंदोलन 14 नवंबर को पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिवस पर शुरू करेंगे। इस मौके पर कौंसलर हेमराज अग्रवाल, महाराज सिंह राजी, नरेन्द्र शर्मा काला, सन्नी भल्ला, संजय शर्मा, विपन अरोड़ा, यादविंदर सिंह राजू, रजविंदर सिंह बाजवा, रॉकी भाटिया, जरनैल सिंह शिमलापुरी, गुरमुख सिंह मिट्‌ठ और कुलवंत सिंह सिद्धू मौजूद थे।