पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Three Arrested For Allegedly Tearing Asi Uniform

एएसआई की वर्दी फाड़ने के आरोप में 3 गिरफ्तार, 6 घंटे प्रदर्शन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना. बाबा दीप सिंह नगर स्थित लिंक रोड पर 5 नवंबर को थाना मॉडल टाउन की पुलिस ने नाकाबंदी के दौरान तीन युवकों को चेकिंग के लिए रोका। युवकों ने नाके पर तैनात एएसआई की वर्दी फाड़ दी और मारपीट की। इस पर तीनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया।

थाना मॉडल टाउन की पुलिस ने एएसआई रणधीर सिंह की शिकायत पर जनकपुरी के अरुण कुमार, प्रदीप कुमार और गांव भट्टियां के रहने वाले कुलदीप शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया है। तीनों युवकों को अदालत में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है। दूसरी तरफ गिरफ्तार किए गए युवकों के घरवालों ने पुलिस पर वर्दी की धौंस दिखाकर गलत तरीके से गिरफ्तार करने और थाने में ले जाकर पिटाई करने का आरोप लगाया है। पुलिस की इस कार्रवाई को लेकर पेरेंट्स ने छह घंटे तक पुलिस कमिश्नर दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया।

एएसआई रणधीर सिंह ने बताया कि उनकी टीम बाबा दीप सिंह नगर स्थित लिंक रोड पर नाकाबंदी की हुई थी। इस दौरान तीनों युवक एक बाइक पर सवार होकर आते दिखाई दिए। जिन्हें चेकिंग के लिए रोक लिया गया। उन्होंने बताया कि जब अरुण से बाइक के दस्तावेज मांगे गए तो उसने गाली-गलौज करते हुए उनकी वर्दी फाड़ दी और मारपीट की। मौके पर मौजूद अन्य पुलिस मुलाजिमों ने बीच-बचाव कर उन्हें बचाया। जिसके चलते आरोपियों के खिलाफ उक्त मामला दर्ज किया गया है।

एएसआई ने खुद कार से टक्कर मारी, थाने लेजाकर पीटा: रमेश

युवकों के घरवालों ने वीरवार को पुलिस कमिश्नर दफ्तर के बाहर छह घंटे तक धरना प्रदर्शन किया। उनका आरोप है कि पुलिस द्वारा तीनों युवकों के ऊपर झूठा मामला दर्ज किया गया है। उन्हें साजिश के तहत फंसाया गया है। उन्होंने मामले की दोबारा जांच के लिए पुलिस कमिश्नर को मेमोरंडम सौंपा। इस दौरान पहुंचे एडीसीपी -2 जसदेव सिंह सिद्धू ने मामले की जांच करने का आश्वासन दिया। अरुण के पिता रमेश कुमार ने पुलिस कमिश्नर को दिए मेमोरंडम में मामले की दोबारा जांच करने की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया कि उनका छोटा बेटा अरुण गांव जोधा स्थित एक लेबोरेटरी में जॉब करता है।

5 नवंबर की शाम को वह काम से छुट्टी कर बाइक से घर लौट रहा था। पक्खोवाल रोड स्थित नहर के पास एएसआई रणधीर सिंह ने अरुण की बाइक में कार से टक्कर मार दी। टक्कर मारने के बाद एएसआई अरुण को पकड़ कर थाना मॉडल टाउन ले गए।

शाम को रणधीर सिंह का फोन आया कि आपके बेटे का मेरी कार से एक्सीडेंट हो गया है। आप थाने आ जाएं। उन्होंने बताया कि जानकारी मिलने के बाद दूसरे बेटे प्रदीप और उसके दोस्त कुलदीप शर्मा को थाने भेजा। लेकिन शाम तक तीनों वापस नहीं आए।

बाद में वह अपने साथियों के साथ थाने गए। जहां पता चला कि उनके लड़कों के खिलाफ उक्त मामला दर्ज किया गया है। उन्हें थाने में पीटा गया है। रमेश का आरोप है कि पुलिस मुलाजिमों द्वारा अपनी वर्दी का रौब दिखाते हुए जानबूझ कर झूठे मामले में फंसाया गया है।
- मेरे ऊपर लगाए जा रहे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। 5 अक्टूबर को मौके पर जो हुआ था हमारी तरफ से उसी के तहत कार्रवाई की गई है। युवकों ने ऑन ड्यूटी पुलिस मेरे साथ मारपीट की और वर्दी फाड़कर सरकारी ड्यूटी में बाधा डाली। जिसके चलते उक्त मामला दर्ज किया गया था। हमारी तरफ से दर्ज किया गया मामला सही है।- रणधीर सिंह, एएसआई थाना सराभा नगर
- मामले की दोबारा जांच करवाई जाएगी। मामले की जांच पूरी होने के बाद ही अगली कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई मामले में दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
- जसदेव सिंह सिद्धू, एडीसीपी -2