पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • श्रद्धा उत्साह से मनाया गया गुरु का प्रकाश पर्व

श्रद्धा उत्साह से मनाया गया गुरु का प्रकाश पर्व

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल में शबद गायन कर मनाया गया श्री गुरु नानक देव जी का जन्मोत्सव

स्थानीयलविंग लिटिल स्कूल में पहली पातशाही धन-धन श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व बच्चों द्वारा बड़ी श्रद्धा उत्साह से मनाया गया।

धार्मिक समागम की शुरुआत श्री जपुजी साहिब के पाठ से की गई। पाठ उपरांत स्कूल प्रिंसिपल मीना अरोड़ा ने अपने सम्बोधन में श्री गुरु नानक देव जी के जीवन के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि गुरु जी ने समाज में से बुराइयों का नाश करने का प्रय| किया। उनका जन्म उस समय हुआ जब चारों ओर अज्ञानता अंधविश्वास फैला हुआ था। गुरु जी ने सभी धर्मों को बराबर सत्कार दिया। उन्होंने दुनिया को भेद कर्म काण्ड से निकलकर असली जीवन जीने का उपदेश दिया। भोग उपरांत अटूट लंगर बांटा गया। इस अवसर पर मैडम सोनिया, पारूल, सिलकी, रजनी, सोनम, मनदीप पाटिल आदि उपस्थित थे। (मलूजा)

गुरु पर्व पर लंगर छकती संगत।

हरीके कलां में श्री गुरु नानक देव जी का जन्मोत्सव मनाते समय कीर्तन करते हुए छात्र।

मलोट के लविंग लिटिल स्कूल में प्रकाश पर्व मनाते हुए बच्चे और टीचर।

मुक्तसर|श्री दरबारसाहिब द्वारा समूह संगतों के सहयोग से हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी पहली पातशाही श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश दिवस बहुत ही श्रद्धा धूमधाम से मनाया गया। प्रकाश दिवस को लेकर गुरुद्वारा टूटी गढ़ी साहिब, गुरुद्वारा शहीद गंज साहिब, गुरुद्वारा तंबू साहिब की बिजली की रंग बिरंगी रोशनियों से की गई सजावट मनमोहक नजारा पेश कर रही थी। इस अवसर दरबार साहिब के मैनेजर जरनैल सिंह हेड ग्रंथी हरप्रीत सिंह ने बताया कि गुरुपर्व को लेकर संगतों में भारी उत्साह था, बड़ी संख्या में संगतों ने गुरुद्वारा श्री टूटी गढ़ी साहिब के पवित्र सरोवर में स्नान करके गुरु घर में हाजिरी लगवाई। गुरुपर्व की खुशी में गुरुद्वारा शहीद गंज साहिब में शुरू करवाया गया। (जसकरन)

मलोट |धन-धन श्रीगुरु नानक देव जी पातशाही पहली जी का प्रकाश पर्व शहर में बड़ी ही श्रद्धा उत्साह से मनाया गया। इस अवसर पर शहर के गुद्ववारों में सुबह से ही धन धन गुरु ग्रंथ साहिब की छत्र छाया में रखे गए अखंड पाठ साहिब के भोग पडे़ रागी सिंहों द्वारा अपनी मधुर आवाज में गुरु गुरु की इलाही बानी का जाप होता रहा। शहर के गुरद्वारा सिंह सभा में भी भाई कुलदीप सिंह द्वारा, सरब सांझा नितनेमी जत्था, इस्त