• Hindi News
  • National
  • जिनके लिए प्रचार, उन्हें ही स्टेज से रखा दूर

जिनके लिए प्रचार, उन्हें ही स्टेज से रखा दूर

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हलकामहलकलां में मालवा जोन की रैली में बसपा सुप्रीमो बहन कुमारी मायावती जिन प्रत्याशियों के लिए वोट मांगने आई उन्हें स्टेज पर भी नहीं बैठाया। पार्टी चुनाव चिन्ह पर हलका बरनाला, संगरूर, बठिंडा आदि जिलों में चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी रैली में एक साइड पर बैठे थे। लोगों में इस बात के लेकर चर्चा है कि जो अपने आप को दबे-कुचलों के सबसे नजदीकी कहने वाले नेता आम लोग तो दूर अपने प्रत्याशियों को भी पास नहीं फटकने देते ऐसे में वो किस तरह से दब-कुचलों के हितों की रक्षा करेंगे।

पार्टी का असूल है: मक्खन

बसपाके महलकलां से प्रत्याशी डॉ. मक्खन सिंह ने कहा कि पार्टी का यही असूल है। जिस रैली में बहन मायावती आती है उस रैली में सिर्फ स्टेट की लीडरशिप ही स्टेज पर बैठती है। वह विशेष परमिशन से स्टेज पर गए थे।

दलित हितों के नाम पर ड्रामा कर रही बसपा: पंडोरी

आपके हलका महलकलां से प्रत्याशी कुलवंत पंडोरी ने कहा कि दलित हितों की रक्षा के नाम पर बसपा वाले ड्रामा करते हैं। जो नेता अपने प्रत्याशियों को स्टेज पर बैठने नहीं देता वो किस तरह से गरीबों के हितों की रक्षा करेगा।

60 फीट दूर बनी स्टेज पर भाषण दे रही पार्टी सुप्रीमो को हाथ हिलाते बसपा प्रत्याशी।

60 फीट दूर से ही हाथ हिलाते रहे प्रत्याशी

अपनीविशेष हैलीकॉप्टर से जेड प्लस सुरक्षा के बीच रैली में चार घंटे लेट पहुंची पार्टी सुप्रीमो मायावती को उनकी पार्टी के करीब डेढ़ दर्जन प्रत्याशी दूर से ही हाथ हिलाते रहे। मायावती ने अपने भाषण में फोकस दलित दबे-कुचलों पर रखा। प्रदेश में दलितों पर हो रहे हमलों के लिए कांग्रेस अकाली दल को बराबर का जिम्मेदार बताया। अपने आप को दबे-कुचलों को सबसे नजदीक बताया। लेकिन किसी भी लोकल वर्कर या नेता को पास फटकने नहीं दिया।

चुनाव प्रचार

खबरें और भी हैं...