पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 6 लाख कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या

6 लाख कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
26अप्रैल 2016 को जिस गांव जोधपुर में कर्जे की कुर्की के कारण पुलिस के सामने किसान मां-बेटे ने आत्महत्या की थी, उसी गांव में कर्जे का ब्याज भरने में असमर्थ किसान ने जहरीली चीज पी कर खुदकुशी कर ली है। ठीक एक साल बाद कर्जे के कारण हुई मौत के कारण गांव में शौक का माहौल है। जहरीली चीज पी कर आत्महत्या करने वाले कौर सिंह के बेटे गुरमेल सिंह ने बताया कि उनके पास केवल दो एकड़ जमीन है।

हर साल कीटनाशक, बीज आदि खरीदने के लिए सोसायटी से कर्ज लेते थे। आढ़ती, बैंक और गांव के लोगों का कुल 6 लाख रुपए का पिता कौर सिंह पर कर्ज था। दो एकड़ फसल से कुछ नहीं बचता था जिसके चलते रकम का ब्याज भी वापस नहीं होता था। शनिवार सुबह करीब 8 बजे उसने घर में पड़ी जहरीली चीज निगल ली। उसके जहर पीने के बाद उसे लोगों की सहायता से सिविल अस्पताल बरनाला में भर्ती करवाने के लिए लेकर आए। जहां पर उसकी मौत हो गई। डीएसपी सिटी राजेश छिब्बर ने कहा कि पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम करवा कर लाश वारिसों के हवाले कर दी है। पुलिस ने मृतक के बेटे के बयान के आधार पर कार्रवाई की है।

कर्जा-कुर्की खत्म के भरवाए फार्मों पर जबाव दे कांग्रेस: मीत हेयर

हलकाबरनाला से आम आदमी पार्टी के एमएलए गुरमीत सिंह मीत हेयर ने कहा कि चुनाव से पहले कांग्रेस ने कर्जा कुर्की खत्म फसल की पूरी रकम के फार्म भरवाए थे। कांग्रेस सरकार आने के बाद कांग्रेस ने कर्जे के मुद्दे पर चुप्पी साध ली है। सरकार को इसका जबाव देना चाहिए।

कर्जा माफ कर 10 लाख मुआवजा दिया जाए: गांव वासी

सरपंचनाजर सिंह, प्रगट सिंह ने कहा कि पीड़ित परिवार में मृतक कमाने वाला था। उनके घर में और कोई कमाई का साधन नहीं है। सरकार पीड़ितों का सारा कर्ज माफ करे। साथ ही मृतक के परिवार को दस लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाए।

संगरूर| कर्जसे परेशान किसान ने जहरीली दवा पीकर आत्महत्या कर ली है। किसान पर साढ़े 3 लाख रूपए सरकारी गैर सरकारी कर्ज था। गांव दुगां निवासी हरी सिंह (55) के पास करीब 2 एकड़ जमीन थी। हरी सिंह के बेटे गुरप्रीत सिंह ने बताया कि पिता कर्ज के चलते कई दिनों से परेशान था। शनिवार शाम वह घर से चला गया लेकिन देर रात तक वापस नहीं आया। वह उसे काफी देर तक ढूंढते रहे। रात 10 बजे के करीब खेत जाकर देखा तो पिता बेसुध पड़ा था। उसे तुरंत सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृतक करार दे दिया। पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दी है।

खबरें और भी हैं...