• Hindi News
  • Punjab
  • Dhuri
  • शूगर मिल में घटतौली का मामला पुन: गर्माया
--Advertisement--

शूगर मिल में घटतौली का मामला पुन: गर्माया

गतदिनों स्थानीय शूगर मिल में जहां कुछ किसानों द्वारा मिल के अंदर स्थित तोल कांटे पर किसानों का गन्ना कम तौलने का...

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 07:55 AM IST
शूगर मिल में घटतौली का मामला पुन: गर्माया
गतदिनों स्थानीय शूगर मिल में जहां कुछ किसानों द्वारा मिल के अंदर स्थित तोल कांटे पर किसानों का गन्ना कम तौलने का आरोप लगाते हुए सारा कामकाज ठप करके मिल प्रबंधकों के खिलाफ रोष जाहिर किया गया था, वहीं बाद में प्रशासन द्वारा इस मामले को मिल बैठ कर निपटा दिया गया था। लेकिन अब पीड़ित किसानों ने इस समझौते पर असंतुष्टि जताते हुए मिल प्रबंधकों पर उन्हें तंग परेशान करने के आरोप लगाए है। पीड़ित किसान मनजीत सिंह बुगरां, निर्मल सिंह बेनड़ा, गुरदीप सिंह बेनड़ा तथा कर्मजीत सिंह बेनड़ा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि उन्होंने क्रमवार 52 एकड़, 108 एकड़, 62 एकड़ तथा 52 एकड़ जमीन में गन्ने की खेती की है। जिसमें से कुछ गन्ना उन्होंने मिल को बेचा था। कुछ दिन पहले शूगर मिल के कांटे पर उनकी ट्राॅली में से 22 क्विंटल 90 किलो गन्ना कम तोले जाने के कारण उनके द्वारा मिल प्रबंधकों के खिलाफ रोष जाहिर किया गया था, जिस कारण अब मिल प्रबंधकों द्वारा इसकी भड़ास निकालते हुए तो उन्हें गन्ना मिल में बेचने हेतू पर्ची दी जा रही है तथा ही उनका गन्ना खरीदा जा रहा है। इसके चलते उनका गन्ना खराब होता जा रहा है। इस सबंधी केन कमिशनर पंजाब जसवंत सिंह का कहना है कि यह मामला उनके ध्यान में है तथा किसी भी किसान या मिल मालिक के साथ पक्षपात नहीं किया जाएगा। इस मामले की जांच धूरी के खेतीबाड़ी विभाग के अधिकारियों द्वारा की जा रही है तथा रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

वहीं पूर्व विधायक धनवंत सिंह ने भी शूगर मिल में पिछले लंबे समय से किसानों के साथ पक्षपात होने एवं गन्ने की तोल की आड़ में किसानों की लूट किए जाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि शूगर मिल की मिलीभगत के चलते ही किसानों की समस्याएं सुनने वाली सोसायटी को भी भंग कर दिया गया है। (राजेश)

शूगर मिल के जनरल मैनेजर जय ठाकुर ने ने कहा पक्षपात के आरोप गलत हैं। प्रत्येक किसान को बनता मान सम्मान दिया जाता है उन्होंने कहा कि कुछ किसानों द्वारा जबरन अपना गन्ना पहले बेचने के लिए मिल पर दबाव डाला जा रहा है, जबकि प्रत्येक किसान को पर्ची क्रमवार कैलेंडर के मुताबिक ही दी जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों किसानों द्वारा मिल का कांटा जाम करने के कारण शूगर मिल का लाखों रुपए का नुकसान हुआ था, जिस संबंधी कार्रवाई की जा रही है।

धूरी की शूगर मिल में बिकने के लिए आई गन्ने से भरी ट्राॅलियां। -भास्कर

X
शूगर मिल में घटतौली का मामला पुन: गर्माया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..