पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • परमात्मा के दर्शन के लिए चाहिए दिव्य दृष्टि: स्वामी हिमांशू

परमात्मा के दर्शन के लिए चाहिए दिव्य दृष्टि: स्वामी हिमांशू

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पठानकोट | दिव्यज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से आश्रम में सतसंग समागम करवाया गया। स्वामी हिमांशु ने कहा कि परिवर्तन अगर साधारण रूप से धीरे धीरे आए तो यह सुधार कहलाता है, परन्तु यही परिवर्तन अगर अथाह वेगवान गति से आए तो यह एक क्रांति का रूप धारण कर लेता है। व्यक्ति के जीवन में समाज के परिवेश में आज ऐसी ही क्रांति की अति आवश्यकता है, जो लौकिक नहीं अपितु अलौकिक हो, सामान्य नहीं किंतु दिव्य हो। जगतगुरू का समाज एवं विश्व को यही आह्वान होता है कि परमात्मा सिर्फ बातों से मानने का विषय भर नहीं अपितु अपने मन में जानकर साक्षात देखने का परम विषय है। क्योंकि बहस का मामला यह नहीं कि परमात्मा का अस्तित्व है या नहीं बल्कि सोच का विषय तो यह है कि क्या हमारे पास वह दिव्य दृष्टि है जिससे ईश्वर पल भर में प्रकट हो जाता है।

खबरें और भी हैं...