पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • सर्दी ने दी दस्तक, अब सावधानी की है जरूरत

सर्दी ने दी दस्तक, अब सावधानी की है जरूरत

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चिलचिलातीधूप गर्मी भरे मौसम के बाद अब गुलाबी मौसम ने दस्तक दे दी है। रात का तापमान 20 डिग्री से लुढ़क गया है जिससे रात का मौसम ठंडा पड़ने लगा है। हालांकि सर्दी का मौसम हेल्थी माना गया है परंतु मौसम के करवट बदलने पर जरा सी लापरवाही सेहत के लिए खतरा बन सकती है। ऐसे में सावधानी बरतने से गुलाबी मौसम का आनंद उठाया जा सकता है। उधर बदलते मौसम के साथ ही बाजार का ट्रेंड भी बदल गया है। लोगों ने गर्म कपड़ों की खरीदारी पर ध्यान देना शुरू कर दिया है।

वर्तमान समय में रात का तापमान 15 से 18 डिग्री सेल्सियस हो गया है। जिस कारण रात के समय में ठंड बढ़ने लगी है। मौसम के करवट बदलने से लोगों की सेहत भी बिगड़ने लगी है। सिटी के अस्पतालों में खांसी और जुकाम के केसों में लगातार बढ़ोतरी होने लगी है। सेहत विशेषज्ञ डॉ. ज्योति वधवा बताते हैं कि मौसम बदलने के साथ ही इंफेक्शन बढ़ रहा है। जिस कारण खांसी, जुकाम और बुखार के मरीज क्लीनिक में अधिक पहुंच रहे हैं। अस्थमा के मरीज के लिए तो सबसे अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। अस्थमा के मरीज को अपनी दवा हमेशा अपने पास रखनी चाहिए। मौसम के करवट लेते ही बच्चे सबसे अधिक प्रभावित होते हैं क्योंकि बच्चों का शरीर परिवर्तन को जल्दी स्वीकार नहीं कर सकता है। बच्चों को गर्म कपड़ों में रखना शुरू कर दें। सर्दी जुकाम होने से तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

त्वचाका रखें ख्याल : सर्दीशुरू होते ही शरीर से पसीना आना बंद हो जाता है। इससे त्वचा में खिंचाव जाता है। जिसे त्वचा फटनी भी शुरू हो जाती है। ब्यूटी एक्सपर्ट रोहिणी सिंगला बताती हैं कि सर्दी में त्वचा पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। इस मौसम में नहाते समय साबुन का इस्तेमाल भी देखकर करें। अधिक कास्टिक वाली साबुन का इस्तेमाल करें। साथ ही मॉस्चराइजर का भी जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। खाने-पीनेका रखें ख्याल : इसमौसम में यदि आपके खाने-पीने का चार्ट बिगड़ा तो इससे आपकी सेहत तो बिगड़ेगी ही। साथ ही आपकी फिगर पर भी बुरा असर पड़ सकता है बॉडी एक्सपर्ट सुरेश गर्ग सर्दी के मौसम में रोजाना सैर एक्सरसाइज को रेगुलर रखने की जरूरत बताई।

एक्सपर्ट की राय

हाफबाजू कपड़ों को छोड़ कर फुल बाजू कपड़े पहनें।

रात के समय पंखे का इस्तेमाल करें।

रात के समय बच्चों को गर्म कपड़े पहनाएं

पानी को उबाल कर पीएं

इंफेक्शन वाले मरीज से