• Hindi News
  • National
  • स्पोर्ट्स कॉलेज में 4 करोड़ के सिंथेटिक ट्रैक की फाइल एक साल से दबी

स्पोर्ट्स कॉलेज में 4 करोड़ के सिंथेटिक ट्रैक की फाइल एक साल से दबी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिटीके स्पोर्ट्स कॉलेज में कंडम सिंथेटिक एथलेटिक्स ट्रैक हॉकी के नए एस्ट्रोटर्फ के लिए 4 करोड़ रुपए तो मंजूर हो गए। लेकिन काम स्टार्ट नहीं हुआ है। पिछले साल फरवरी के पहले हफ्ते में चंडीगढ़ से खेल विभाग की टीम ने दौरा करके योजना को मंजूरी दे दी थी। लेकिन आज तक इसकी फाइल ही कंस्ट्रक्शन वर्क पर नहीं पहुंची है। स्पोर्ट्स डिपार्टंमेंट के जानकारों का कहना है कि योजना के फंड्स डायवर्ट होने के बाद पैसा ही रिलीज नहीं हुआ, इससे सारे काम चौपट हो गया। प्लेयर अब भी मिट्टी कंडम ट्रैक पर ही अभ्यास कर रहे हैं।

स्पोर्ट्स कॉलेज में तीन दशक पुराना एथलेटिक्स ट्रैक कब का कंडम हो चुका है। जबकि हॉकी के लिए तो एस्ट्रोटर्फ है ही नहीं है। यहां पर 8 करोड़ रुपये का एस्टीमेट लॉन टेनिस, बास्टकेटबॉल, स्वीमिंग पूल उक्त दोनों सिंथेटिक मैटीरियल के मैदानों के लिए बना था। चार करोड़ रुपये पहले फेज के लिए तय हो गए थे। इससे सिंथेटिक ट्रैक हॉकी टर्फ बनाने के लिए टेंडर के आर्डर हुए। तभी एैन वक्त पर फैसला हुआ की पास की इमारतों की कंस्ट्रक्शन पूरी होने पर टर्फ बनाएंगे ताकि ये धूल-मिट्टी से खराब हो। ये इमारतें भी तैयार हो गईं। सिर्फ फाइनल टच देना बचा है। अब इन्हें पूरा किया ही मैदान बने हैं।

स्पोर्ट्स विभाग के जानकार बताते हैं कि 21 करोड़ का ये प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के फंड से पूरा करना था। केंद्र से आखिरी चरण में फंस नहीं मिला। इसमें पंजाब सरकार ने भी अंशदान देना था। वो भी नहीं आया। जिससे मैदानों का काम भी साथ में ही अटक गया।

कपूरथला रोड पर सरकार ने 1960 में स्पोर्ट्स स्कूल कॉलेज बनाया था। इसे 47 एकड़ जमीन दी गई। पहले ये 15 साल खुद को स्थापित करने के लिए कोशिश में रहा। फिर 1980 में एशियन गेम्स के लिए यहां सिंथेटिक ट्रैक बना था। इसकी उम्र 10 साल थी। ये क्रॉस हो गई। इसे रीवैंप नहीं किया गया।

यहां पर अभ्यास करने वाले एथलीट कहते हैं कि यहां पर सुविधा की कमी होने से लोग तरनतारन लुधियाना जाते हैं। हॉकी के लिए सुरजीत हॉकी मैदान में जाना पड़ता है। वो रेगुलर टूर्नामेंट्स का स्टेडियम है। जबकि स्पोर्ट्स कॉलेज में तो रोजाना की गेम खेली जानी है। इस लिए यहां पर अलग से एस्ट्रोटर्फ जरूरी है।

खबरें और भी हैं...