पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ‘सिद्धू साहब, पटियाला इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर ध्यान दो’

‘सिद्धू साहब, पटियाला इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर ध्यान दो’

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटियाला | एसएसटीनगर में बने एचआईजी और एमआईजी फ्लैट्स मालिकों ने समस्या के चलते मीटिंग की। उन्होंने मीटिंग कर लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिद्धू से मांग की, कि बठिंडा ही नहीं पटियाला इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर भी ध्यान दो। फ्लैट मालिकों ने कहा कि 2012 में फ्लैट्स का पजेशन देना था। 5 साल बाद भी अभी तक फ्लैट्स मालिकों को सहूलियत नहीं मिल पा रही है। ट्रस्ट अधिकारी कोई बात सुनने को तैयार नहीं है।

फ्लैट्स एसोसिएशन के प्रधान दविंदरपाल सिंह ने बताया कि इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर से हमसे फ्लैट्स के नाम पर लाखों रुपए तो वसूल लिए, हमें सहूलियत देने में ट्रस्ट नाकामयाब रहा है। जिसके चलते अभी तक फ्लैट में काम अधूरे हैं। जल्द सिद्धू से मुलाकात कर बठिंडा इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के अधिकारियों की तरह पटियाला इंप्रूवमेंट ट्रस्ट अधिकारियों पर भी कार्रवाई की मांग करेंगे। तैयार किए गए एचआईजी और एमआईजी फ्लैट्स में अधूरे काम को लेकर जांच कमेटी लगाने की मांग की गई, जिससे जिम्मेदार मुलाजिमों पर एक्शन हो सके। ईओ राज कुमार ने बताया कि फ्लैट्स में एक लिफ्ट खराब है, इसकी जानकारी है। जल्द डीसी कुमार अमित के साथ मीटिंग कर उसे ठीक करवाया जाएगा। बाकी काम की जानकारी होने की बात कही।

यह पड़े अधूरे काम

फ्लैट्सका रंग रोगन। लापरवाही के चलते हजारों लीटर पानी बर्बाद हो रहा है। ग्राउंड फ्लोर पर लगी इंटरलॉकिंग टाइलें दबनी शुरू हो गई हैं। आए दिन पानी के पाइप फटते हैं। चार महीने से लिफ्ट खराब है। फ्लैट्स में दो गेट लगाकर देने का वादा किया, चार गेट बनाकर छोड़ दिए।

आरटीआई का भी नहीं देते जवाब : फ्लैट्समालिक विजय सिंगला ने बताया कि फ्लैट्स के अधूरे पड़े काम को लेकर कई बार आरटीआई डाली गई। ट्रस्ट अधिकारी एक भी आरटीआई का जवाब नहीं दे रहे। ट्रस्ट अधिकारी फ्लैट्स के अधूरे काम को पूरा कर रहे हैं और आरटीआई का जवाब दे रहे हैं। मालिक वरिंदर बालिया ने बताया कि 2016 में फ्लैट खरीदा था। इंप्रूवमेंट ट्रस्ट ने मुझसे 3 लाख 79 हजार 240 रुपए इनहांसमेंट के वसूले। जब इंप्रूवमेंट ट्रस्ट अधिकारी फ्लैट्स मालिकों को सहूलियत देने में असमर्थ हैं तो इनहांसमेंट का पैसा क्यों वसूल रहे।

खबरें और भी हैं...