पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • 15 15 Years Imprisonment Opium Smugglers

अफीम तस्करों को 15-15 साल कैद

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर.मादक पदार्थो की तस्करी का ट्रांजिट केंद्र रहे अजमेर में 118 किलो 600 ग्राम अफीम समेत पकड़े गए दो तस्करों को विशेष अदालत ने शनिवार को 15-15 साल की कैद और डेढ़-डेढ़ लाख रुपया जुर्माना किया है।
न्यायाधीश अजय शारदा ने नीमच निवासी विजय सिंह और किशोर को एनडीपीएस एक्ट के तहत सजा सुनाई है। उस समय अफीम की कीमत करीब 70 लाख आंकी गई थी।
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के वकील जफर अहमद 26 जुलाई 2009 को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के इंटेलिजेंस सेल के अधीक्षक वाईआर यादव को मुखबिर के जरिए सूचना मिली कि 27 जुलाई को दो व्यक्ति नीमच की ओर से आल्टो कार में नसीराबाद होते हुए आएंगे।
यह दोनों व्यक्ति अफीम तस्कर हैं और कार में भारी मात्रा में अफीम ले जा रहे हैं। दोनों के नाम की पुष्टि नीमच के विजय सिंह और किशोर के रूप में की गई थी और कार का नंबर आरजे 06 सी 1372 बताया गया। सूचना पर अधीक्षक यादव ने दल का गठन किया और 27 जुलाई 2009 को पॉलिटेक्निक कॉलेज के बाहर नाकाबंदी की गई।
दो स्वतंत्र गवाहों को मौजूद रखा गया। नाकाबंदी के दौरान बताए गए नंबर वाली कार रोकी गई। कार से में बैठे दो व्यक्तियों से नाम पता पूछा तो उन्होंने खुद नीमच के जावद थाना क्षेत्र निवासी विजय सिंह पुत्र भगवान सिंह चूंडावत और किशोर पुत्र प्रभू लाल गुर्जर बताया।
एनसीबी ने दोनों से अफीम के बारे में पूछा तो वे सकपका गए और फिर स्वीकार किया कि वे तस्करी कर रहे हैं। दल ने कार की डिक्की खोली तो उसमें कट्टों में भरी अफीम मिली। प्लास्टिक की नौ थैलियों में पैक्ड अफीम को तौला गया जो 118 किलो 600 ग्राम निकली।
एनसीबी ने आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट की धारा 8/18 के तहत मुकदमा दर्जकर चार्जशीट दायर की थी। एनसीबी के वकील जफर अहमद ने बताया कि जुर्माना अदा नहीं करने पर मुल्जिमों को तीन-तीन साल अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।
एनसीबी सेल की जरूरत
अजमेर में मादक पदार्थो के जितने बड़े मामले पकड़े गए वे सभी एनसीबी ने पकड़े हैं। इस मामले में 118 किलो से ज्यादा अफीम पकड़ी गई थी। इससे पहले भी एनसीबी की अजमेर में की कार्रवाई में भारी मात्रा में मादक पदार्थ बरामद हुए है। अजमेर और पुष्कर मादक पदार्थो के बड़े ट्रांजिट पाइंट हैं। ऐसे में यहां एनसीबी की सेल खुलने से बड़ी धरपकड़ की जा सकती है।