• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • आयु सीमा बढ़ाने से सामान्य वर्ग के पुरुषों को फायदा

आयु सीमा बढ़ाने से सामान्य वर्ग के पुरुषों को फायदा

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आरएएस 37 से 39 में नहीं, अब 42 से 45 साल के मिलेंगे

भर्ती परीक्षा के लिए ये हैं आयु सीमा मापदंड

राज्यसरकार द्वारा भर्तियों में आयु सीमा 35 से बढ़ाकर 40 वर्ष किए जाने का लाभ सिर्फ सामान्य वर्ग के उम्रदराज पुरुषों को ही मिल पाएगा। एससी, एसटी, ओबीसी, एसबीसी, महिलाएं, दिव्यांग आदि को पहले से ही इसका फायदा मिल रहा है। सब कुछ ठीक रहा तो भी सामान्य वर्ग के उम्रदराज पुरूषों को अगले छह महीने बाद ही लाभ मिलना शुरु होगा, क्योंकि सरकार को नियम बनाने होंगे जिनमें लगभग छह माह का समय लग सकता है।

यदि अगले एक महीने में भर्तियों के लिए आवेदन मांगे गए तो 35 पार के .बेरोजगार वंचित रहेंगे। लेकिन दूसरी ओर इसका एक नकारात्मक पक्ष यह भी है कि युवा बेरोजगारों को अब उम्रदराजों से सीधी प्रतियोगिता करनी होगी। हां एक बात तय है, आरपीएससी में आवेदनों की संख्या लगभग दो गुना हो जाएगी। अकेले आरएएस में ही इससे आवेदनों की संख्या आठ लाख पहुंचने का अनुमान है।

आयोग 18 तरह की भर्तियां निकालता है। अपनी सरकार के चार साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बुधवार को बेरोजगारों के लिए एक बड़ी घोषणा की है। आयु सीमा 35 से बढ़ाकर 40 वर्ष करने की घोषणा की गई है। सरकार की इस घोषणा का प्रदेश के बेरोजगारों पर क्या असर होगा भास्कर ने इसकी पड़ताल की।

आरएएस 2017 में होगा लागू!

अबबेरोजगारों में यह भी सवाल किया जा रहा है कि सरकार इस निर्णय को कब से लागू करेगी। निकट में ही आयोजित होने वाली आरएएस 2017, संस्कृत शिक्षा विभाग में शिक्षकों के पदों पर होने वाली भर्ती और अन्य भर्ती परीक्षाओं में इस निर्णय को लागू करेगी। इन परीक्षाओं की अर्थना आयोग को मिल चुकी है। या फिर इन परीक्षाओं के बाद आने वाली भर्ती से इसे लागू किया जाएगा।

नएनियम कब तक बनेंगे

एकसवाल यह भी है कि इस निर्णय के आधार पर अब सरकार भर्ती के लिए नए नियम कब तक बना सकेगी। इसका भी इंतजार किया जा रहा है।

आरआरबी की भर्ती में नहीं मिलेगा फायदा

सीएमकी आयु वृद्धि संबंधी घोषणा का रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा आयोजित की जाने वाली भर्ती परीक्षाओं में फायदा नहीं मिलेगा। बोर्ड सूत्रों के मुताबिक इन परीक्षाओं में केंद्र के नियम लागू होते हैं।

प्रदेश को अब आरएएस अफसरों में से कई 42 से 45 साल की उम्र के मिलेंगे। एक आरएएस परीक्षा पूरी होने में 2 साल लग जाते हैं। परीक्षा संपन्न होने तक अभ्यर्थी 37 साल का हो चुका होता है और परिणाम के बाद प्रशिक्षण आदि पूरा करने पर वह करीब 39 साल को हो चुका होता है। सरकार के नए निर्णय के बाद 40 साल के अभ्यर्थी आवेदन करेंगे, तो उनकी आयु परीक्षा आयोजन तक करीब 42 साल होगी और परीक्षा परिणाम के बाद प्रशिक्षण आदि प्राप्त करने में उसे दो साल और लग सकते हैं। ऐसे में भविष्य में जो आरएएस अफसर मिलेंगे उनमें से कइयों की आयु 45 साल तक हो सकती है। ऐसा ही मामला अन्य भर्ती परीक्षाओं में भी हो सकता है।

आईएएस में अधिकतम आयु 32 वर्ष

यूपीएससी द्वारा आयोजित की जाने वाली आईएएस के लिए सामान्य अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 21 साल और अधिकतम 32 साल है। आरक्षित वर्ग की अधिकतम आयु 37 साल है।

10 वर्ष : राजस्थान राज्य के एससी, एसटी एवं ओबीसी एसबीसी महिला तथा विधवा परित्यक्ता महिला|

सामान्यवर्ग के निशक्तजन।

13 वर्ष : ओबीसी निशक्तजन।

15 वर्ष : एससी एसटी।

न्यूनतम आयु 18 अधिकतम 35 साल से कम | कृषिअनुसंधान अधिकारी, पीटीआई और एलडीसी भर्ती।

आरक्षित वर्गों के लिए अधिकतम आयु सीमा में रियायत | आरक्षितवर्ग के अभ्यर्थियों की भी अधिकतम आयुसीमा 35 वर्ष ही है लेकिन उन्हें अधिकतम आयु में अलग वर्षों की छूट मिली हुई है।

अधिकतम आयु 37 42 वर्ष | चिकित्साशिक्षा विभाग में सहायक आचार्य, डीएम और एमसीएच की विशेष डिग्रीधारकों के लिए अधिकतम आयु 42 वर्ष।

न्यूनतम आयु 25 वर्ष और अधिकतम आयु 45 वर्ष से कम | आरएएसमें अराजपत्रित कर्मचारी।

न्यूनतम 21 और अधिकतम 35 साल से कम की आयुसीमा | आरएएस,कनिष्ठ लेखाकार एवं तहसील राजस्व लेखाकार, कनिष्ठ विधि अधिकारी, प्राध्यापक स्कूल शिक्षा, वरिष्ठ अध्यापक ग्रेड सेकंड भर्ती परीक्षा।

5 वर्ष - राजस्थान राज्य के एससी, एसटी एवं ओबीसी एसबीसी पुरुष तथा सामान्य वर्ग की महिला | यानिइन वर्गों के अभ्यर्थी 40 वर्ष तक की आयु में भी आवेदन कर सकते हैं।

इसका जवाब आना बाकी

खबरें और भी हैं...