• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • ‘परीक्षाओं के निष्पक्ष आयोजन के लिए बोर्ड कटिबद्ध’

‘परीक्षाओं के निष्पक्ष आयोजन के लिए बोर्ड कटिबद्ध’

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थानमाध्यमिक शिक्षा बोर्ड की विशेषाधिकारी प्रिया भार्गव ने कहा है कि राजस्थान बोर्ड, परीक्षाओं की पवित्रता और उसके निष्पक्ष आयोजन के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने शिक्षा अधिकारियों से कहा कि बोर्ड की परीक्षाएं किसी भी विद्यार्थी के लिए पहली सार्वजनिक परीक्षा है, इसलिए शिक्षकों का दायित्व है कि इन परीक्षाओं का आयोजन पूर्णत: पारदर्शी और निष्पक्ष हो।

भार्गव सोमवार को बोर्ड के राजीव गांधी भवन में परीक्षा वर्ष 2017 के सफल आयोजन के संबंध में संदर्भ व्यक्तियों की प्रशिक्षण कार्य गोष्ठी को संबोधित कर रही थी। यह संदर्भ व्यक्ति अपने-अपने जिलों में बोर्ड परीक्षा केंद्रों के अधीक्षकों और अतिरिक्त केंद्राधीक्षकों को परीक्षाओं के सुचारू आयोजन के लिए प्रशिक्षित करेंगे।

बोर्ड की वित्तीय सलाहकार आनंद आशुतोष ने भी परीक्षा व्यवस्था संबंधी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसी भी परीक्षा केंद्र पर यदि अतिरिक्त फर्नीचर लगाना है, तो निकटवर्ती विद्यालय से उसकी व्यवस्था कर ली जाए। जिन निजी विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया गया है, उन्हें कक्षा 9 से 12 तक अध्ययनरत परीक्षार्थियों की संख्या के बराबर सिंगल सीटेड फर्नीचर की व्यवस्था उपलब्ध करानी होगी।

अतिरिक्त फर्नीचर की व्यवस्था दुरुस्त कर लें

प्रश्न पत्रों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण

उन्होंनेकहा कि प्रश्न-पत्रों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है। किसी भी केंद्र पर गलत प्रश्न-पत्र खुलने से लाखों विद्यार्थियों, अभिभावकों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है, इसलिए शिक्षक प्रश्न-पत्र खोलने में विशेष सावधानी बरतें। बोर्ड के निदेशक गोपनीय जीके माथुर ने कहा कि बोर्ड द्वारा राज्य के सभी जिलों में बोर्ड परीक्षाओं के लिए पर्याप्त मात्रा में उत्तरपुस्तिकाओं का प्रेषण संबंधित परीक्षा केंद्र पर 25 फरवरी तक पूरा लिया जाएगा। उन्होंने प्रश्न-पत्रों की सुरक्षा व्यवस्था, उत्तर पुस्तिकाओं की व्यवस्था उन्हें परीक्षा के बाद सुरक्षित पैक कर संग्रहण केंद्र पर भेजने की कार्य व्यवस्था का प्रजेंटेशन दिया। जिले के विशेष चिह्नित परीक्षा केंद्र, संवेदनशील, अतिसंवेदनशील गत वर्षों में हुए सामूहिक नकल वाले केंद्रों अथवा भौगोलिक दृष्टि से दूरदराज स्थित केंद्रों पर कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला परीक्षा संचालन समिति द्वारा माइक्रो ऑब्जर्वर की नियुक्ति की जाएगी। ये शिक्षा विभाग के अतिरिक्त अन्य सेवाओं के अधिकारी भी होंगे। माइक्रो ऑब्जर्वर परीक्षा समाप्ति तक की गतिविधियों का निरीक्षण कर रिपोर्ट कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला परीक्षा संचालन समिति तथा सचिव माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को गोपनीय रूप से देंगे।

बोर्ड प्रश्न-पत्रों की सुरक्षा को सर्वोच्च महत्व दे रहा है। सीकर, नागौर, झुंझुनूं, दौसा, करौली, सवाई माधोपुर, जोधपुर और बाड़मेर जिलों में शत-प्रतिशत केंद्रों पर वीडियोग्राफी कराई जाएगी। राज्य के संवेदनशील अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्रों तथा बोर्ड के उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों पर ऑनलाइन सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे, जिनका सीधा नियंत्रण बोर्ड कार्यालय में होगा। उन्होंने शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि निजी विद्यालयों में सभी वीक्षकों की नियुक्ति भी राजकीय विद्यालयों से करें, जो यथासंभव स्थानीय हो। बोर्ड प्रबंध मंडल के सदस्य और जिला शिक्षा अधिकारी दीपक जौहरी ने कहा कि बोर्ड परीक्षाओं के सफल संचालन का पहला दायित्व संदर्भ व्यक्तियों का है, क्योंकि वे ही अपने क्षेत्र के केंद्राधीक्षकों को परीक्षाओं के सफल संचालन के लिए प्रशिक्षित करेंगे।

खबरें और भी हैं...