...और बंद आंखों से निगेहबान हैं कैमरे!

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

अजमेर शहर के विभिन्न हिस्सों में लगे सीसी टीवी कैमरे बंद पड़े हैं, एक नहीं बल्कि एक दर्जन। एक दो दिन से नहीं बल्कि लंबे समय से। बड़ा सवाल यह उठ खड़ा हुआ है कि इन्हें पुलिस के छोटे बड़े अफसरों ने शुरू कराने की सुध नहीं ली, या जानबूझकर इन कैमरों को शुरू नहीं करवाया जा रहा है।


ज्यादा संभावना यही है कि कोई भी इन्हें शुरू नहीं करवाना चाहता। एसपी राजेश मीणा के थानेदारों से मंथली लेते पकड़े जाने के बाद अब यह पूरी तरह साफ हो चुका है कि कोई भी नहीं चाहता कि लोगों से वसूली की कोई भी तस्वीर इन कैमरों में कैद हो।


निलंबित एसपी राजेश मीना और फरार हुए एएसपी लोकेश सोनवाल को हर माह मंथली देने आने वाला दलाल रामदेव ठठेरा भी कैमरे में कैद ना हो पाया। सीसी टीवी कैमरे लगाए इस कारण थे कि यातायात का सुगम संचालन हो और पुलिस थानों व मुख्य चौराहों पर अगर किसी तरह का अपराध हो तो पुलिस कंट्रोल में लगे सिस्टम में बैठे-बैठे ही देखा जा सके कौन व्यक्ति क्या कर रहा है?


यही नहीं आपराधिक गतिविधियों को भी कैमरों में पकड़ा जा सके। अपराधी भागा तो किधर और यातायात का दबाव हो रहा हो तो यातायात को किस तरह से डाइवर्ट किया जा सके। जिन स्थानों पर ये कैमरे लगे हैं वहां तैनात थानों के पुलिसकर्मी या यातायात पुलिस के सिपाही सरेआम लोगों से वसूली करते देखे जा सकते हैं। ऐसा तभी संभव हुआ जब कैमरे बंद हो गए, कैमरों के कारण डर बना हुआ था।

कैमरे ने दिलाई मां को बच्ची


ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की विश्व विख्यात दरगाह में आने-जाने वाले जायरीन पर नजर रखने के लिए यहां पर भी सीसी कैमरे लगे हुए हैं। हाल ही में ख्वाजा साहब दरगाह परिसर के अंदर से एक महिला ने किसी जायरीन का बच्चा चुरा लिया था।

इस घटना के बाद वह वहां से भाग गई थी, लेकिन वह दरगाह परिसर में लगे सीसी टीवी कैमरे में कैद हो गई थी। इसी सीसी टीवी कैमरे के फुटेज के आधार पर वह बाद में पकड़ी भी गई थी। इसी तरह यदि शहर के दूसरे स्थानों पर लगे सीसी टीवी कैमरे काम करें तो यहां पर होने वाली चेन स्नेचिंग, लूट, डकैती के आरोपी भी पकड़े जा सकते हैं।

शहर में यहां लगे है कैमरे

रोडवेज बस स्टैंड, क्लाक टावर, मदारगेट, गांधी भवन, बजरंगगढ़, फव्वारा, आगरा गेट, देहली गेट, मार्टिन्डल ब्रिज, प्लाजा सिनेमा, नया बाजार, धानमंडी। इन सभी स्थानों पर लगे सभी कैमरे पुलिस कंट्रोल रूम से जुड़े हुए हैं। एक ही व्यक्ति कंट्रोल रूम में बैठकर इन सभी स्थानों पर होने वाली गतिविधियों पर नजर रख सकता है।