बिना देरी खाते में मिलेगी मजदूरी

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

ब्यावर। डाकघर में अब 'डायरेक्ट कैश ट्रांसफर स्कीमÓ नरेगा श्रमिक के हाथ में पूरी मजदूरी दिलाएगी। नरेगा के तहत 100 दिन मजदूरी करने के बाद डाकघर के खातेदार श्रमिकों भुगतान के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। ब्यावर प्रधान डाकघर से जुड़े करीब ढाई लाख नरेगा मजदूरों को बिना किसी बिचौलिए के सीधे खाते में मजदूरी मिल सकेगी।

सरकार काम की मजदूरी सीधे डाकघर के खातों में जमा कराएगी। 15 जनवरी से यह स्कीम लागू होगी। नरेगा भुगतान में देरी और अनियमितताओं की शिकायतों के चलते यह कदम उठाया गया है। नरेगा से जुड़े करीब 70 श्रमिकों को खाते डाकघर में हैं। शेष श्रमिकों के मिनी बैंक और राष्ट्रीयकृत बैंकों में भी खाते है। मिनिस्ट्री ऑफ रुरल एंड डवलपमेंट की ओर से संचालित इस स्कीम के तहत सरकार डाक विभाग को भुगतान करेगी। डाक विभाग सॉफ्टवेयर के जरिए हर खातेदार श्रमिक के खाते में भुगतान जमा करेगा।


सरकार से सीधा जुड़ेगा श्रमिक

नई व्यवस्था के अनुसार डाक विभाग सरकार की योजनाओं में महत्वपूर्ण कड़ी के रूप काम करेगा। स्थानीय डाकघर के अधिकारियों के मुताबिक श्रमिकों को अलग से खाते खुलवाने की आवश्यकता नहीं है। नरेगा भुगतान के लिए खुलवाए गए खातों में अन्य सरकारी योजनाओं का भुगतान भी आसानी से दिया जा सकता है। केंद्र व राज्य सरकार की नरेगा श्रमिकों या ग्रामीणों के लिए पेंशन, बीमा, हाउसिंग लोन, शिक्षा आदि से जुड़ी योजनाओं का भुगतान सीधे खाते में किया जा सकेगा। इसमें किसी भी दूसरे विभाग या जनप्रतिनिधियों की कुछ भी भूमिका नहीं रहेगी। वेरीफिकेशन जारी : योजना को लेकर वेरीफिकेशन का काम किया जा रहा है। विभाग ने अब तक 1.76 लाख खातों को योजना जोड़ दिया है। ढाई लाख में से शेष बचे खातों को भी जल्द ही जोड़ दिया जाएगा। मंडल डाकघर से जुड़े 234 पोस्ट ऑफिस की मॉनिटरिंग ब्यावर व नसीराबाद हैड पोस्ट ऑफिस से की जाएगी।

अब तक यह थी व्यवस्था : नरेगा कार्यों के तहत ई-मस्टररोल में श्रमिक का नाम आने के मेट श्रमिकों की उपस्थिति करता है। ग्राम रोजगार सहायक श्रमिकों की रिपोर्ट पंचायत समिति में भेजता है। कम्प्यूटर पर रेट और मानदेय तय किया जाता है। वेज लिस्ट तैयार होने के बाद बीडीओ और सरपंच द्वारा भुगतान के लिए रिपोर्ट भेजी जाती है।


॥ग्रामीणों को सरकार की योजनाओं से सीधे रूप से जोडऩे की योजना तैयार की गई है। प्रधान डाकघर के अंतर्गत आने वाले सभी डाकघरों में नई व्यवस्था की तैयारी पूर्ण ली गई है। हैड पोस्ट ऑफिस नसीराबाद और ब्यावर के कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दे दिया गया है। 15 जनवरी से योजना को मूर्त रूप दे दिया जाएगा।
-एनएम माली, डाक अधीक्षक, ब्यावर